'मैं नहीं मानता कि यह पार्टी के लिए झटका है.'

— नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

गडकरी ने यह बात उत्तराखंड विधानसभा में हुए शक्ति परीक्षण में हरीश रावत सरकार के जीतने की खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए कही है. इस जीत को मोदी सरकार के लिए झटका माना जा रहा है जिसने राज्य सरकार को बर्खास्त कर 28 मार्च को उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगा दिया था. तिरुवनंतपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में गडकरी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक उत्तराखंड में विधानसभा की बैठक हुई और कांग्रेस को बहुमत मिला, इसलिए केंद्र सहयोग करेगा. उन्होंने यह भी कहा कि उत्तराखंड की समस्या कांग्रेस की अंदरूनी कलह का परिणाम है और भाजपा या पीएम मोदी इसके लिए जिम्मेदार नहीं हैं.

'अकबर रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप रोड किया जाना चाहिए.'

— सुब्रमण्यम स्वामी, भाजपा सांसद

अपने बयानों से अक्सर विवाद खड़ा करने वाले स्वामी के इस नए बयान के बाद भी ऐसा ही हो सकता है. एक न्यूज एजेंसी से बात करते हुए स्वामी ने कहा कि राणा प्रताप एक निर्भीक योद्धा थे जो किसी बाहरी ताकत के आगे नहीं झुके. स्वामी के मुताबिक इसलिए उनके त्याग और बलिदान को देखते हुए उनके सम्मान में अकबर रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप रोड किया जाना चाहिए. भाजपा सांसद का यह भी कहना है कि दिल्ली के लुटियंस जोन में 33 फीसदी मार्गों के नाम मुस्लिम शासकों के नाम पर है. इससे पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी केंद्र सरकार से अकबर रोड का नाम बदलने की मांग की थी. कुछ समय पहले दिल्ली की औरंगजेब रोड का नाम बदलकर एपीजे अब्दुल कलाम मार्ग कर दिया गया था.


 'इसके बिना भारतीय रेलवे आगे नहीं जा सकेगी.'

— सुरेश प्रभु, केंद्रीय रेल मंत्री

प्रभु ने यह बात रेलवे में भारी निवेश और नयी प्रौद्योगकी की जरूरत बताते हुए कही है. उन्होंने कहा कि चीन में रेलवे में सालाना निवेश 9-10 लाख करोड़ रुपये है जबकि यहां यह आंकड़ा 40 हजार रुपये है. रेलमंत्री के मुताबिक इस वजह से ट्रैफिक दूसरे क्षेत्रों की तरफ जा रहा है भारतीय रेलवे की तुलना अमेरिका की रेल रोड सेवा एमट्रेक से करते हुए प्रभु ने कहा कि एमट्रेक निवेश की कमी के कारण ही पटरी से उतर गई. उन्होंने कहा कि कुछ ऐसा ही भारतीय रेल के साथ भी होता दिख रहा है इसलिए इसमें निवेश बढ़ाना होगा. कई जानकार भी कहते रहे हैं कि रेलवे की दशा सुधारने के लिए इसके ढांचे को सुधारने की जरूरत है और यह काम भारी निवेश से ही हो सकता है.


'क्या धोनी 2019 में अगुआई करेंगे? अगर जवाब नहीं है तो फिर नया कप्तान ढूंढिए. अगर जवाब हां है तो मुझे काफी हैरानी होगी. '

— सौरव गांगुली, पूर्व क्रिकेटर

पूर्व कप्तान गांगुली ने यह बात हर प्रारूप में विराट कोहली को भारतीय टीम का कप्तान बनाने का तर्क देते हुए कही. उन्होंने कहा कि अगर सीमित ओवरों की टीम के मौजूदा कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 2019 विश्व कप में भारतीय टीम की अगुआई करते हैं तो उन्हें हैरानी होगी. गांगुली के मुताबिक राष्ट्रीय चयनकर्ताओं को इस मुद्दे पर जल्द फैसला करना चाहिए जिससे कि टीम भविष्य की योजना बना सके. उन्होंने सवाल किया कि नौ साल के दौरान धोनी ने जिस तरह कप्तान की जिम्मेदारी निभाई वह कमाल है लेकिन क्या उनमें क्षमता है कि भारत को 2019 में विश्व कप में ले जा सकें. हालांकि उन्होंने कहा कि धोनी को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते रहना चाहिए.


'वे अविश्सनीय रूप से दुष्ट हैं और उन्होंने उन कई महिलाओं के खिलाफ जो किया वह शर्मनाक है.' 

— डोनाल्ड ट्रंप, रिपब्लिकन नेता

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन खेमे से उम्मीदवारी के दावेदार ट्रंप ने यह टिप्पणी अपनी प्रतिद्वंदी हिलेरी क्लिंटन पर पूरी तरह से व्यक्तिगत हमला शुरू करते हुए की है. ट्रंप ने कहा कि कई महिलाएं ऐसी हैं जिन्हें पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के बजाय उनकी पत्नी हिलेरी ने बर्बाद किया. इस बयान से एक बार फिर बिल क्लिंटन के विवाहेत्तर संबंधों का मुद्दा ताजा हो गया है. महिलाओं के खिलाफ ट्रंप की अपमानजनक टिप्पणियों ने महिला मतदाताओं के बीच उन्हें काफी अलोकप्रिय बनाया है. ट्रंप अपनी पार्टी से पूर्व प्रतिद्वंद्वी टेड क्रूज की पत्नी और फॉक्स न्यूज की एक एंकर के खिलाफ भी अपमानजनक टिप्पणी कर चुके हैं. पूरे आसार हैं कि नवंबर के आम चुनाव में उनका सामना हिलेरी से होगा.