'राज्य में सुधार के लिए कांग्रेस छोड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. कांग्रेस रमन सिंह की सरकार के लिए टीम-बी की तरह काम कर रही है.'

— अजित जोगी, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री

कांग्रेस की केंद्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अजित जोगी ने यह बात कांग्रेस छोड़ कर नई पार्टी बनाने का ऐलान करते हुए कही. जोगी का दावा है कि राज्य में कांग्रेस के 38 में से 15 विधायक उनके संपर्क में हैं. उन्होंने कहा कि छह जून को वे नई पार्टी के नाम, झंडे और नारे का ऐलान करेंगे. जोगी ने कहा, 'मैं काफी लोगों से मिलता हूं. कम से कम हजार समर्थकों से निजी तौर पर मिला हूं और उन सभी ने यह कहते हुए दबाव बनाया है कि अगर छत्तीसगढ़ को रमन सरकार से मुक्त कराना है, तो मैं कांग्रेस छोड़ दूं.' उधर, कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'अजित जोगी ने कांग्रेस उम्मीदवार मांडू पवार का सौदा बीजेपी के साथ किया था. इसलिए कांग्रेस के लिए अच्छा होगा कि वे पार्टी को छोड़ दें.' जोगी का यह बयान ऐसे वक्त में आया है, जब कांग्रेस के भीतर उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाए जाने की चर्चा है.

'जब वे 10-20 साल अपने परिवार और बच्चों से दूर रहेंगे तब उन्हें अलग होने का दर्द समझ में आएगा.'

— जकिया जाफरी, पूर्व कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी की पत्नी

जकिया जाफरी का यह बयान गुलबर्ग सोसाइटी मामले में आए फैसले पर आया. उन्होंने 2002 में गोधराकांड के बाद गुलबर्ग सोसाइटी को निशाना बनाने के मामले में 36 लोगों को छोड़ने के फैसले पर निराशा जताई. भयावह घटना को याद करते हुए जकिया ने कहा, 'मैं उनके लिए मौत की सजा नहीं मांग रही हूं, लेकिन कम से कम उन्हें और सख्त सजा मिलनी चाहिए. मैं इसके लिए अपनी लड़ाई जारी रखूंगी.’ अहमदाबाद की विशेष एसआईटी अदालत ने गुलबर्ग सोसाइटी दंगा मामले में 66 में से 24 लोगों को सजा सुनाई है. इसमें 13 लोगों को हत्या के मामले में, जबकि 11 लोगों को हल्के अपराधों में सजा सुनाई गई है. गुलबर्ग सोसाइटी दंगे में कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी समेत 69 लोग मारे गए थे.


'मैं पिछले दो साल से कह रहा हूं कि प्रियंका जी पार्टी के लिए अच्छी पूंजी साबित होंगी.'

— कैप्टन अमरिंदर सिंह, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री

कैप्टन का यह बयान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करने के बाद आया. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और पंजाब के आगामी चुनावों को ध्यान में रखकर प्रियंका गांधी को कांग्रेस में शामिल करना चाहिए. सिंह ने कहा, 'वे (प्रियंका) अपनी मां कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी के लिए मददगार साबित होंगी.' उन्होंने केरल और असम में हार के बाद ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी में प्रस्तावित बदलावों की जानकारी होने से इंकार किया. इसी हफ्ते एक साक्षात्कार में कैप्टन ने सोनिया गांधी पर टिप्पणी करके विवाद को जन्म दे दिया था. उन्होंने कहा था, ‘मैंने सोनिया गांधी के साथ काम किया है. वे अच्छी नेता हैं, लेकिन अब उम्र हो गई है, निश्चित रूप से वे थक गई हैं. अगर वे स्वयं आगे बढ़कर राहुल को जिम्मेदारी सौंपती हैं तो यह अच्छा होगा.'


'राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना हमारे लिए अच्छे दिन हैं.'

— स्मृति ईरानी, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री

केंद्रीय मंत्री ईरानी ने यह बात एक साक्षात्कार में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाए जाने की अटकलों पर कही. राहुल गांधी पर निशाना साधने की वजह पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि चूंकि पत्रकार उनसे सवाल करते हैं, इसलिए वे जवाब देती हैं. ईरानी ने हैदराबाद यूनिवर्सिटी और जेएनयू विवाद में राहुल गांधी की सक्रियता पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी दो बार हैदराबाद यूनिवर्सिटी गए, लेकिन, अमेठी में वे एक जगह पर दो बार नहीं गए हैं. जेएनयू विवाद के दौरान राहुल गांधी के जेएनयू जाने को लेकर उन्होंने कहा कि 2009 में भी जेएनयू में लाठीचार्ज हुआ था, तब वे वहां पर क्यों नहीं गए थे. आम चुनाव में राहुल गांधी से चुनाव हारने के बाद से ईरानी राहुल गांधी पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ रही हैं.


'मैं सोचता हूं कि ट्रंप रिपब्लिकंस के कुछ अन्य निर्वाचित अधिकारियों की तुलना में ज्यादा रंगीन मिजाज हैं.'

— बराक ओबामा, अमेरिका के राष्ट्रपति

ओबामा ने यह बयान इंडियाना में आयोजित एक कार्यक्रम में दिया. ट्रंप की नीतियों की आलोचना करते समय उनका नाम न लेने के सवाल पर ओबामा ने कहा, 'आप जानते हैं, वे (ट्रंप) अपने नाम का जिक्र करके अच्छा काम कर रहे हैं. इसलिए मुझे लगता है कि मैं उन्हें अपना प्रचार खुद करने दूं.' ओबामा ने प्रवासियों, व्यापार और अन्य मुद्दों पर ट्रंप के बयानों की आलोचना की. उन्होंने कहा, 'ये सारी बातें करना आसान है कि सभी प्रवासियों को बाहर कर देंगे, दीवार बना देंगे, चीन के साथ व्यापार तोड़ देंगे, लेकिन, इनका एक ही सरल जवाब है कि क्या अचानक सब लोग सुरक्षित महसूस करने लगेंगे.' ओबामा ने आगे कहा, 'लोगों को लगता है कि प्रवासी यहां आते हैं और सरकार से सारी सुविधाएं ले लेते हैं. लेकिन, ये प्रवासी सेवाओं की तुलना में कहीं ज्यादा टैक्स देते हैं. रिपब्लिकंस ने अर्थव्यवस्था को लेकर जो कहानियां सुनाई हैं, वे तथ्यों पर आधारित नहीं हैं.'