रियो ओलंपिक-2016 में रूसी एथिलीट्स पर लगा प्रतिबंध जारी रहेगा. स्विटजरलैंड स्थित कोर्ट ऑफ ऑर्बिट्रेशन फॉर स्पोर्ट्स (सीएएस) ने इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ एथलीट्स फेडरेशंस (आईएएएफ) के फैसले को बदलने से इंकार कर दिया है. सरकार द्वारा डोपिंग को बढ़ावा देने संबंधी रिपोर्ट आने के बाद आईएएएस ने रूसी एथलीट्स पर प्रतिबंध लगा दिया था. इसी फैसले को रूसी ओलंपिक समिति और 68 एथलीट्स ने सीएएस में चुनौती दी थी. सीएएस ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद प्रतिबंध हटाने से इंकार कर दिया. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक सीएएस ने आईएएएफ नियमों के आधार पर एथिलीट्स पर लगे प्रतिबंध को सही माना है.

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति एक अन्य रिपोर्ट के आधार पर अगले महीने होने जा रहे रियो ओलंपिक के लिए रूस के सभी रूसी खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाने पर भी विचार कर रही है. सीएएस का फैसला आने के बाद आईएएएफ के अध्यक्ष लॉर्ड कोई ने कहा, ‘आईएएएफ की टास्क फोर्स रियो ओलंपिक के बाद रूस में एथलीट्स को साफ-सुथरा माहौल देने के लिए काम करती रहेगी ताकि भविष्य में एथलीट्स फेडरेशन और खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय मान्यता और प्रतियोगिताओं में शामिल होने के लिए आवेदन कर सकें.’

सीएएस का फैसले आने के बाद रूसी एथलीट्स तटस्थ खिलाड़ी के रूप में रियो ओलंपिक में भाग ले सकते हैं. लेकिन, इसके लिए उन्हें अन्य सभी शर्तों पर खरा उतरना होगा.

बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बड़े बेटे को सात साल की कैद

बांग्लादेश के हाईकोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में विपक्ष की नेता और पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बेटे तारिक रहमान को सात साल की जेल की सजा सुनाई है. 2013 में ढाका की एक निचली अदालत ने बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के नेता तारिक रहमान और उसके दोस्त को 2003-2007 के बीच लाखों डॉलर सिंगापुर भेजने के आरोप से बरी कर दिया था. हाई कोर्ट ने निचली अदालत के उस फैसले को पलट दिया है.

खबरों के अनुसार, सहायक महाधिवक्ता मोनीरुजमान कबीर ने कहा है कि ‘हाईकोर्ट ने कहा है कि तारिक रहमान ने अपने दोस्त गयासुद्दीन मामून को 20 करोड़ टका (बांग्लादेशी मुद्रा) हासिल करने और उसे विदेश भेजने में अपने राजनीतिक प्रभाव का दुरुपयोग किया था.’ उन्होंने कहा, ‘मामून को ये पैसे एक कंस्ट्रक्शन कंपनी को पॉवर प्लांट का ठेका दिलाने के एवज में घूस के तौर पर मिले थे जिसे बाद में सिंगापुर भेजा गया था.’ हाईकोर्ट ने रहमान पर 20 करोड़ टका जुर्माना भी लगाया है.

51 वर्षीय रहमान 2008 में इलाज कराने के लिए लंदन गए थे. इसके बाद वे बांग्लादेश नहीं लौटे हैं. बांग्लादेश में दो बार प्रधानमंत्री रह चुकी खालिदा जिया का बड़ा बेटा होने के नाते उन्हें जिया का उत्तराधिकारी माना जाता रहा है. हालांकि रहमान के वकील जैनुलाब्दीन का कहना है कि अगर सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को नहीं बदला तो वे राजनीति में शामिल नहीं हो पाएंगे.

तुर्की में राष्ट्रपति एर्दोऑन ने तीन महीने के लिए आपातकाल घोषित किया

सैन्य तख्तापलट की कोशिश असफल रहने के बाद तुर्की में तीन महीने के लिए आपातकाल लगा दिया गया है. खबरों के मुताबिक आपातकाल घोषित होने के बाद राष्ट्रपति और मंत्रिमंडल को संसद की मंजूरी के बिना कानून बनाने की शक्ति मिल गई है. सरकार अब नागरिक अधिकारों व स्वतंत्रता पर भी रोक लगा सकेगी. आपातकाल के दौरान सरकार के इन आदेशों को अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकेगी.

आपातकाल घोषित करने के बाद राष्ट्रपति रेचप तैय्यप एर्दोऑन ने कहा कि तख्तापलट के लिए जिम्मेदार ‘आतंकी’ समूहों को बख्शा नहीं जाएगा और इसका समर्थन करने वाले लोगों की सेना से सफाई की जाएगी. नागरिक अधिकारों के हनन की आशंका को दूर करते हुए उन्होंने कहा, ‘यह उपाय लोकतंत्र, कानून या नागरिक आजादी के खिलाफ नहीं है बल्कि इसका लक्ष्य लोकतंत्र और मानवाधिकारों की रक्षा करना है.’

पिछले हफ्ते सैन्य तख्तापलट की कोशिश के दौरान 246 लोग मारे गए थे. इसके बाद इसमें शामिल लोगों के खिलाफ चल रही कार्रवाई में छह हजार से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. तुर्की सरकार ने 600 से ज्यादा स्कूल बंद करने के अलावा हजारों सरकारी कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है.