पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें उस दिन का बेसब्री से इंतजार है जब पूरा कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा बन जाएगा. उन्होंने शुक्रवार को पाक के कब्जे वाले कश्मीर में अपनी पार्टी पीएमएल-एन की जीत पर एक जनसभा को संबोधित करते हुए ये बात कही.

लंदन में दिल का ऑपरेशन कराने के बाद पहली बार कश्मीर पहुंचे शरीफ ने कहा, 'भारत के कब्जे वाले कश्मीर में अपनी जान कुर्बान कर रहे लोगों को हमें कभी नहीं भूलना चाहिए. आजादी के लिए किया जा रहा उनका ये संघर्ष बेकार नहीं जाएगा.'

उन्होंने आगे कहा, 'किस तरह से कश्मीर में लोगों को मारा और पीटा जा रहा है ये किसी से छिपा नहीं है, हमारी प्रार्थनाएं कश्मीर के लोगों के साथ हैं और हमें उस दिन का इंतजार है जब कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा बन जाएगा.'

पिछले कुछ समय से नवाज शरीफ भारत पर काफी सख्त टिप्पणियां कर रहे हैं. इसी महीने कश्मीर में आतंकी बुरहान बानी के मारे जाने के बाद उन्होंने उसे निर्दोष बताते हुए इसे भारत की बर्बर कार्रवाई करार दिया था. शरीफ ने इसके विरोध में 19 जुलाई को काला दिवस मनाने की भी घोषणा की थी.

दयाशंकर की मां ने मायावती के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई

बसपा प्रमुख मायावती के ख़िलाफ़ अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने वाले पूर्व भाजपा नेता दयाशंकर सिंह के परिवार ने अब मायावती पर पलटवार किया है. दयाशंकर की मां तेत्रा सिंह ने मायावती, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, रामअचल राजभर और मेवालाल जैसे प्रमुख बसपा नेताओं सहित कई अज्ञात बसपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराई है.

इस एफआईआर में तेत्रा सिंह ने कहा है कि मायावती ने उनके, उनकी बहू और उनकी पोती सहित देश की समस्त महिलाओं के लिए अपशब्द कहे हैं. और बसपा प्रमुख के कहने पर ही लखनऊ के हजरतगंज में नसीमुद्दीन सिद्दीकी, रामअचल राजभर की अगुवाई में बसपा कार्यकर्ताओं ने इकठ्ठा होकर उन्हें और उनकी बेटी को भद्दी-भद्दी गलियां दी हैं.

पूर्व भाजपा नेता की मां ने इस एफआईआर में मायावती और नसीमुद्दीन सिद्दीकी पर दयाशंकर की हत्या का षड्यंत्र रचने का भी आरोप लगाया है. बीते सोमवार को दयाशंकर सिंह ने मायावती के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी जिसके बाद भाजपा ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया था. इस घटना के बाद से दयाशंकर सिंह फरार हैं और यूपी पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए प्रयास कर रही है.

भगवंत मान के वीडियो की वजह से संसद के सुरक्षा ढांचे में बदलाव किया जाएगा

गृहमंत्रालय भगवंत मान के वीडियो की वजह से संसद के सुरक्षा ढांचे में बदलाव करेगा. मंत्रालय ने मान की इस हरकत पर संज्ञान लेने के बाद कहा है कि अब संसद की सुरक्षा का पूरा ताना-बाना बदला जाएगा, क्योंकि आप सांसद के वीडियो से उसकी सुरक्षा व्यवस्था लीक हो गई है.

गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों के मुताबिक 13 दिसंबर 2001 को आतंकवादी संसद के गेट नंबर एक से संसद परिसर में तो दाखिल हो गए थे, लेकिन वे संसद भवन के अंदर दाख़िल नहीं हो पाए थे. क्योंकि संसद के भीतर कैसे घुसना है इसकी जानकारी आतंकियों को नहीं थी. लेकिन मान के वीडियो के जरिए अब ये जानकारी भी आम हो गई है.

वहीं, इस घटना को गंभीर बताते हुए स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मीडिया से कहा कि भगवंत मान पर कार्रवाई जरुर होगी, लेकिन वह किस तरह की होगी यह सभी पार्टियों के नेताओं से बातचीत के बाद तय होगा. उन्होंने यह भी बताया कि एक संयुक्त आयुक्त को इस मामले की जांच की जिम्मेदारी सौंप दी गई है.