केंद्र सरकार की नीतियों को जनविरोधी बताते हुए आज लगभग 10 लाख बैंक कर्मचारी हड़ताल पर हैं. हड़ताल यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (यूएफबीयू) के कहने पर बुलाई गई है. इस यूनियन में सार्वजनिक क्षेत्र के नौ बैंक शामिल हैं. यूनियन ने एसबीआई के सहयोगी बैंकों के एसबीआई में प्रस्तावित विलय और बैंकिंग सेक्टर में विदेशी निवेश का विरोध किया है. उसका कहना है कि सरकार सुधार के नाम पर वित्तीय व्यवस्था को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी कर रही है.

हड़ताल की वजह से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. खबरों के मुताबिक चेक क्लीयरेंस और नकद जमा जैसे काम बंद होने के चलते करीब 15 हजार करोड़ रु का लेन-देन प्रभावित हुआ है. उधर, हड़ताल को जायज ठहराते हुए अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने कहा है कि उनकी मांगें वेतन बढ़ोत्तरी को लेकर नहीं बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की रक्षा और सरकार की नीतियों के खिलाफ हैं.

पुणे में इमारत के निर्माण के दौरान हादसा, नौ की मौत

महाराष्ट्र के पुणे में एक इमारत के निर्माण के दौरान हुए हादसे में नौ लोगों की मौत की खबर है. दुर्घटना एक स्लैब के गिरने से हुई. मलबे में कई मजदूरों के फंसे होने की भी आशंका जताई जा रही है जिन्हें बाहर निकालने की कोशिश जारी है.

बताया जा रहा है कि जिस इमारत में यह हादसा हुआ उसे सिर्फ 12 मंजिलों की ही मंजूरी दी गई थी. लेकिन बिल्डर इससे ज्यादा मंजिल बना रहा था. हादसा के वक्त मजदूर इमारत की 13वीं मंजिल पर काम कर रहे थे. पुणे के मेयर प्रशांत जगताप का कहना है कि प्रशासन ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए सभी निर्माणाधीन इमारतों की जांच के आदेश दिए हैं. उनके मुताबिक इस दौरान यह भी देखा जाएगा मजदूरों को सुरक्षा के पर्याप्त साधन उपलब्ध कराए गए हैं या नहीं.