असम के कोकराझार शहर में अज्ञात बंदूकधारियों ने अंधाधुंध गोलीबारी की है. भीड़-भाड़ वाले एक बाजार में हुई इस गोलीबारी में 13 लोगों के मारे जाने और 18 के घायल होने की खबर है. जवाबी मुठभेड़ में एक हमलावर मारा गया है. ताजा जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों और हमलावरों के बीच मुठभेड़ जारी है. असम के पुलिस महानिदेशक मुकेश सहाय के मुताबिक हमलावर तीन-चार की संख्या में हो सकते है. संदेह जताया जा रहा है कि यह बोडो उग्रवादियों का काम है.

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को फोन पर ताजा स्थिति की जानकारी दी है. केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने मीडिया से कहा कि इलाके में काफी समय से शांति थी. उन्होंने आज गोलाबारी की घटना को दु:खद बताया है. बताया जा रहा है कि एनआईए की एक टीम भी कोकराझार के लिए रवाना हो गई है.

कोकराझार इलाका बोडोलैंड क्षेत्र के केंद्र में है. इस इलाके में लंबे समय से अलगाववादी अलग बोडोलैंड राज्य की मांग करते रहे हैं.

कश्मीर में हजरतबल दरगाह तक मार्च को लेकर कई इलाकों में कर्फ्यू और धारा 144 लागू

कश्मीर घाटी में हजरतबल दरगाह तक अलगाववादियों के प्रस्तावित मार्च को रोकने के लिए कुछ और इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक ये इलाके बारामूला, शोपियां, कालूसा और हंदवाड़ा के कुछ हिस्से हैं. पुलिस के मुताबिक घाटी के बाकी हिस्सों में आईपीसी की धारा 144 लागू है. इसके तहत इलाके में चार या अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर एहतियातन रोक लगाई गई है ताकि कानून व्यवस्था कायम रखी जा सके. इसके अलावे कश्मीर घाटी के संवेदनशील और अति संवेदनशील इलाकों में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात किए गए गए हैं.

हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से घाटी में अशांति का माहौल है. प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हुए संघर्ष में 40 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. इन मौतों के विरोध में अलगाववादियों के बंद बुलाने और कर्फ्यू के कारण घाटी में लगातार 28वें दिन भी जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा.