मुस्लिम प्रचारक जाकिर नाइक पर लगे आरोपों की जांच कर रही महाराष्ट्र पुलिस ने अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को सौंप दी है. मंगलवार को खुद फडणवीस ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मुंबई पुलिस आयुक्त डी पडसालगीकर ने उन्हें जाकिर नाइक मामले की रिपोर्ट सौंपी है. उनके मुताबिक पुलिस ने नाइक के संगठन इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) के साथ-साथ नाइक को भी कुछ गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त पाया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार इस रिपोर्ट का अध्ययन कर रही है और जल्द ही केंद्रीय गृह मंत्रालय के साथ इसे साझा करेगी. उनके अनुसार गृह मंत्रालय के साथ विचार-विमर्श करने के बाद वे इस मामले में आगे की कार्रवाई करेंगे. उधर, नाइक की संस्था आईआरएफ ने इन सभी आरोपों का खंडन किया है. संस्था के प्रवक्ता ने कहा है कि मुख्यमंत्री को सौंपी रिपोर्ट में लगाए गए आरोप झूठे हैं और जाकिर नाइक ने केवल शांति और सौहार्द्र को बढ़ाने का काम किया है.

बीती एक जुलाई को ढाका में हुए हमले के बाद बांग्लादेश ने दावा किया था कि इस हमले को अंजाम देने वाले आतंकी जाकिर नाइक से प्रेरित थे. इसके बाद महाराष्ट्र पुलिस ने नाइक के खिलाफ जांच शुरू की थी.

ट्रेन की छत में छेद कर चोरों ने आरबीआई के करीब छह करोड़ रुपये चोरी किए

तमिलनाडु में चोरों ने एक बड़ी घटना को अंजाम दिया है. सोमवार रात चोरों ने राज्य के सलेम और चेन्नई के बीच चलती ट्रेन से आरबीआई के 5.75 करोड़ रुपए चोरी कर लिए हैं. रेलवे पुलिस के अधिकारी विजय कुमार के मुताबिक सोमवार रात सलेम-चेन्नई एग्मोर एक्सप्रेस के तीन डिब्बों में कुछ बैंकों के 342 करोड़ रुपए चेन्नई के आरबीआई कार्यालय ले जाए जा रहे थे. उनके मुताबिक इस दौरान चोर ट्रेन की छत में छेद कर एक डिब्बे में घुस गए और रुपए निकाल कर भाग गए.

बताया जाता है कि ट्रेन के चेन्नई पहुंचने से कुछ घंटे पहले जब अधिकारियों ने डिब्बे को खोला तो उन्हें इस वारदात का पता चला. विजय कुमार के मुताबिक चोरों ने छत काटने के लिए गैस कटर का इस्तेमाल किया था.

वहीं, आईजी रेलवे पुलिस एम रामा सुब्रमनी ने बताया कि 226 कंटेनरों में रुपये रखे गए थे और चार कंटेनर में से रुपये निकाले गए हैं. उनके मुताबिक नोटों के कम मूल्यवर्ग के होने की वजह से चोर ज्यादा रुपये नहीं ले जा पाए. सुब्रमनी के मुताबिक शुरुआती जांच में पता लगा है कि यह वारदात विरुधाचलम रेलवे स्टेशन के आसपास अंजाम दी गई है जहां ट्रेन करीब एक घंटे रुकी थी.

भारत ने सीमा पार से जारी आतंकवाद को लेकर पाक उच्चायुक्त को तलब किया

भारत ने पाकिस्तान की ओर से जारी आतंकवाद को लेकर पाक उच्चायुक्त अब्‍दुल बासित को तलब किया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने मंगलवार को बताया कि विदेश सचिव एस जयशंकर ने अब्‍दुल बासित को अपने कार्यालय में बुलाकर पाकिस्तान की आतंकी गतिविधियों पर कड़ा विरोध जताया है. उनके मुताबिक बासित से स्पष्ट कहा गया है कि उनके देश का यह रवैया वहां के बड़े नेताओं द्वारा दिए गए आश्‍वासन के एकदम विपरीत है.

भारत ने बासित के सामने सबूत के तौर पर हाल ही में कश्‍मीर में पकड़े गए आतंकी बहादुर अली का जिक्र किया जिसने स्‍वीकारा है कि उसे लश्‍कर-ए-तैयबा के शिविरों में प्रशिक्षण देने के बाद भारत भेजा गया था. साथ ही बासित को बहादुर अली का वह पत्र भी दिया गया है जिसमें उसने पाक उच्चायोग से अपने लिए कानूनी सहायता और अपने परिवार से मुलाकात कराने का अनुरोध किया है. विकास स्‍वरूप ने यह भी बताया कि भारत सरकार पाक उच्‍चायोग को बहादुर अली से राजनयिक संपर्क करने की इजाजत देने के लिए तैयार है.