अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक की गतिविधियों को देश के खिलाफ बताया है. नाइक के नजदीकी रिश्तेदारों के खाते में 60 करोड़ रुपया जमा होने की खबर पर उन्होंने कहा, ‘नाइक के रहस्यों से एक-एक करके परदा उठ रहा है. उनकी गतिविधियां देशहित के खिलाफ हैं. एजेंसियां इसकी जांच कर रही हैं. मुझे भरोसा है कि उनकी सच्चाई जल्द सबके सामने होगी.’

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि नाइक के नजदीकी रिश्तेदारों के खातों में पिछले तीन साल में मध्य-पूर्व देशों से 50 से लेकर 60 करोड़ रुपये तक जमा कराए गए हैं. इनमें नाइक की पत्नी, बच्चे और अन्य रिश्तेदार शामिल हैं. अब मुंबई पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि ये रुपये नाइक के रिश्तेदारों के खाते में क्यों डाले गए और इन्हें किस काम के लिए इस्तेमाल किया जाना था. एक पुलिस अधिकारी का कहना है, 'हम सभी संदिग्ध लेन-देन की जांच करेंगे और बैंक से उनकी जानकारी लेंगे. प्राथमिक जांच पूरी होने के बाद हम पहले बैंकों और अन्य लोगों का, फिर नाइक के परिजनों का बयान दर्ज किया जाएगा.'

मुंबई पुलिस नाइक और उनके एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के वित्तीय लेन-देन की जांच कर रही है. पिछले हफ्ते मुंबई पुलिस की ओर से महाराष्ट्र सरकार को सौंपी गई एक रिपोर्ट में नाइक पर गैर-कानूनी गतिविधियों में शामिल होने का संदेह जताया गया है.

एक जुलाई को ढाका के एक कैफे पर आतंकी हमला हुआ था. इसमें 22 लोग मारे गए थे जिनमें को मारने वाले दो आतंकियों को जाकिर नाइक से प्रेरित बताया गया था. इसके बाद से भारत में उनकी गतिविधियों की जांच की जा रही है.