आतंकवाद निरोधक बल राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) की एक रिपोर्ट सरकार सहित किसी के भी माथे पर बल डाल सकती है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के कुछ हिस्सों में आतंकवादियों और उग्रवादियों को जनता का समर्थन मिल रहा है और जब तक इसे रोकने के सफल उपाय नहीं किए जाएंगे तब तक भारत आतंकी गतिविधियों से जूझता रहेगा.

यह रिपोर्ट देश में पिछले कुछ समय के दौरान हुए बम धमाकों और इस साल अप्रैल से जून के बीच सभी राज्यों से लिए गए अलग-अलग आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई है. राष्ट्रीय बम डेटा सेंटर (एनबीडीसी) की मदद से तैयार की गई इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि आतंकवादी संगठनों और कश्मीर और उत्तर-पूर्व के विद्रोहियों और नक्सलियों द्वारा आर्डिनेंस फैक्ट्रियों में बने हथियारों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

एनबीडीसी के आंकड़ों के मुताबिक आतंकवादियों-उग्रवादियों के निशाने पर मुख्य रूप से जनता है और देश के कुछ हिस्सों में इन्हीं आतंकियों को जनता का समर्थन भी भरपूर मिल रहा है. रिपोर्ट के अनुसार जब तक राष्ट्र-विरोधी तत्वों को जनता का समर्थन नहीं रुकेगा तब तक आतंकी गतिविधियों पर लगाम लगना मुश्किल है. एनएसजी ने देश के नागरिकों को सुरक्षित रखने और इस स्थिति से निपटने के लिए 'एक राष्ट्र' या ‘संपूर्ण राष्ट्र’ की भावना से प्रयास करने की सलाह दी है.