बिहार के सत्ताधारी महागठबंधन में उठे विवाद को आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने शांत करने की कोशिश की है. मंगलवार को लालू ने इस मामले पर पहली बार मीडिया से खुलकर बात की. उनका कहना है कि यह बखेड़ा मीडिया की देन है, गठबंधन को कोई खतरा नहीं है और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही महागठबंधन के नेता हैं.

आरजेडी प्रमुख ने पार्टी के उपाध्यक्ष और पूर्व सांसद रघुवंश प्रसाद सिंह के बयान पर नाराजगी जताई. उनके मुताबिक वे रघुवंश प्रसाद को कई बार समझा चुके हैं कि नीतीश कुमार ही गठबंधन के नेता हैं लेकिन इसके बावजूद वे मीडिया में कुछ न कुछ बोल देते हैं. लालू के मुताबिक वे जल्द ही इस बारे में रघुवंश प्रसाद और पार्टी के अन्य नेताओं से बात करेंगे और उन्हें साफ-साफ समझाएंगे कि गठबंधन के बारे में अनावश्यक बयानबाजी न करें.

हालांकि, आरजेडी अध्यक्ष ने अपनी पार्टी के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की बयानबाजी पर गोलमोल बयान देते हुए उनका बचाव किया है. उन्होंने कहा, 'शहाबुद्दीन आरजेडी के सदस्य हैं और यदि वे कहते हैं कि मैं उनका नेता हूं तो इसमें क्या गलत है? उन्होंने कोई अभद्र टिप्पणी नहीं की है.' पिछले हफ्ते जमानत पर रिहा हुए शहाबुद्दीन ने लालू प्रसाद यादव को अपना नेता और नीतीश को परिस्थितियों का मुख्यमंत्री बताया था. इसके बाद रघुवंश प्रसाद ने शहाबुद्दीन के इस बयान का बचाव करते हुए कहा था, 'लालू यादव ही हमारे नेता हैं, मैं उन्हीं को मुख्यमंत्री देखना चाहता था. मैं नीतीश को मुख्यमंत्री बनाने के पक्ष में नहीं था, लेकिन महागठबंधन के फैसले को मानना पड़ा.'