तेलंगाना के एक अलग राज्य बनने के दो साल बाद राज्य सरकार ने अब तक का सबसे बड़ा प्रशासनिक बदलाव किया है. मंगलवार को विजयादशमी के अवसर पर राज्य के मौजूदा दस जिलों में से 21 नए जिले और बना दिए गए हैं. इसके साथ ही राज्‍य में जिलों की संख्‍या 31 हो गई है. मुख्‍यमंत्री चंद्रशेखर राव ने सिद्दीपेट शहर में फीता काटकर और राष्‍ट्रीय ध्‍वज फहराकर सिद्दीपेट ज़िले का उद्घाटन किया है. यह जिला मुख्यमंत्री के पैतृक जिले मेडक से कट कर बना है. इसके अलावा अन्य जिलों का उद्घाटन राज्य सरकार के मंत्रियों, सांसदों और अन्य जन प्रतिनिधियों द्वारा किया गया है.

नए जिलों के बारे में बताते हुए मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने कहा कि जिलों के पुनर्गठन का मकसद छोटे-छोटे जिले बनाना है. उनके अनुसार इससे राज्य के लोगों को बेहतर प्रशासन मिल सकेगा साथ ही सरकार की योजनाओं को प्रभावी तरीके से जनता के बीच पहुंचाया जा सकेगा. मुख्यमंत्री के मुताबिक नए जिलों में अस्पताल, विश्‍वविद्यालय और अन्य जरूरी संस्थानों का निर्माण जल्द ही करवाया जाएगा. राज्य सरकार ने मंगलवार को नए जिलों के कलेक्टरों, पुलिस अधीक्षकों सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्ति की सूची भी जारी कर दी है.

दो जून 2014 को तेलंगाना के अस्तित्व में आने के बाद हुए राज्य चुनावों में चंद्रशेखर राव ने 14 नए जिले बनाने का वादा किया था. लेकिन, पिछले दिनों नए जिलों की संख्या 14 से ज्यादा करने की मांग को लेकर पूरे राज्य में काफी प्रदर्शन हुए थे जिसके बाद सरकार ने 21 नए जिले बनाने की घोषणा की थी.