भाजपा की मदद से सरकार कभी नहीं बनाऊंगी : मायावती

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बीच सपा जहां बड़ा राजनीतिक गठजोड़ खड़ा करने की कोशिश कर रही है, वहीं मायावती का दावा है कि बसपा को पूर्ण बहुमत मिलेगा. इंडिया टुडे के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी को किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी और बसपा अकेले अपने दम पर सरकार बनाएगी. मायावती का यह भी कहना था कि वे जीवन में कभी भी भाजपा की मदद से सरकार नहीं बनाएंगी.(विस्तार से पढ़ें)

जिन आतंकियों से जुड़ी सूचना के लिए एनडीटीवी इंडिया पर बैन लगा है उनके अस्तित्व पर ही संदेह है

एनडीटीवी इंडिया का प्रसारण एक दिन के लिए रोकने का केंद्र सरकार का आदेश विवादों में घिरता जा रहा है. यह फैसला जिन तथ्यों पर आधारित है, उन पर सवाल उठने लगे हैं. ख़बरों के अनुसार चार जनवरी के प्रसारण में जिन दो आतंकियों से जुड़ी सूचना देने के लिए एनडीटीवी इंडिया पर सजा के तौर पर प्रतिबंध लगाया गया है, उनके अस्तित्व के बारे में जांचकर्ता अभी तक किसी पुख्ता नतीजे पर नहीं पहुंच पाए हैं. (विस्तार से पढ़ें)

सपा के सिल्वर जुबली कार्यक्रम में अखिलेश-शिवपाल का एक-दूसरे पर निशाना

समाजवादी पार्टी अपनी 25वीं जयंती के मौके को भले ही अपनी राजनीतिक ताकत दिखाने के लिए इस्तेमाल करने में सफल रही हो, लेकिन मंच एक होने के बावजूद पार्टी के बड़े नेताओं के बीच अनबन साफ दिखाई दी. शिवपाल ने अपने भाषण की शुरुआत में मुख्यमंत्री अखिलेश पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘कितना मेरा अपमान कर लेना, कितनी ही बार मुझे बर्खास्त कर देना. मैं जानता हूं कि मैंने अच्छा काम किया है.’ उन्होंने आगे कहा कि कुछ लोगों को चीजें आसानी से मिल जाती हैं और कुछ लोगों को बलिदान देकर भी नहीं मिलती हैं. (विस्तार से पढ़ें)

अमेरिका ने अल-कायदा के अहम नेता अल-कतानी को मार गिराया

अमेरिका ने अफगानिस्तान में अल-कायदा के बड़े नेता फारुक अल-कतानी को मार गिराने का दावा किया है. अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि कतानी की मौत बीते 23 अक्टूबर को अफ़गानिस्तान के कुनार प्रांत में किए गए अमेरिकी हवाई हमले में हुई है. पेंटागन के मीडिया सचिव पीटर कुक के अनुसार अमेरिका द्वारा कतानी को मारा जाना इस बात का उदाहरण है कि अमेरिका दुनिया भर में आतंकवाद को खत्म करने को लेकर गंभीर है. (विस्तार से पढ़ें)

तुर्की में नौ पत्रकार गिरफ्तार

तुर्की में तख्तापलट के बाद चल कार्रवाई पर सरकार विरोधी नजरिया रखने वाले लोगों को दबाने का आरोप लग रहा है. तुर्की पुलिस ने शनिवार को वहां के सबसे प्रतिष्ठित अखबार जम्हूरियत के संपादक सहित नौ पत्रकारों को गिरफ्तार कर लिया. रॉयटर्स के मुताबिक इन पत्रकारों को सोमवार को हिरासत में लिया गया था लेकिन, शनिवार उन्हें ट्रायल के लिए औपचारिक रूप से गिरफ्तार कर लिया गया. जम्हूरियत को राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोऑन की आलोचना करने वाले कुछ अखबारों में गिना जाता है. (विस्तार से पढ़ें)

कश्मीर के शोपियां में सुरक्षा बलों से मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच हुई मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया है. पीटीआई के मुताबिक इस मुठभेड़ में भारतीय सेना का एक जवान भी घायल हुआ है. पुलिस अधिकारियों ने मीडिया को बताया कि शनिवार सुबह पुलिस को शोपियां शहर से करीब 60 किमी दूर दोबजान गांव में चार आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली थी. इसके बाद राज्य पुलिस और सेना के जवानों ने गांव को घेर लिया. इनके मुताबिक आतंकियों की संख्या चार बतायी जा रही है जिसमें से एक की मौत हो चुकी है. (विस्तार से पढ़ें)

सरकार ने जाकिर नाईक की संस्था पर बिना मंजूरी के विदेशों से धन लेने पर रोक लगाई

मोदी सरकार ने विवादों में घिरे इस्‍लामिक उपदेशक डॉ जाकिर नाईक को एक और बड़ा झटका दिया है. सरकार ने नाईक के शिक्षण कार्यों से जुड़े 'आईआरएफ एजुकेशनल ट्रस्ट' को 'पूर्व अनुमति श्रेणी' में डाल दिया है. इस फैसले के बाद अब यह ट्रस्ट गृह मंत्रालय की अनुमति के बिना विदेशों से धन नहीं ले पाएगा. शनिवार को गृह मंत्रालय की ओर से एक गजट अधिसूचना जारी की गई. इस अधिसूचना में कहा गया है कि आईआरएफ एजुकेशनल ट्रस्ट ने विदेशी योगदान नियमन कानून (एफसीआरए) के विभिन्न प्रावधानों का उल्लंघन किया है. (विस्तार से पढ़ें)