भारत के शहरों में घर से बाहर एक अदद साफ-सुथरा शौचालय खोजना बड़ी चुनौती होती है. लेकिन केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की योजना सफल रही तो यह मुश्किल काफी हद तक कम हो सकती है. खबरों के मुताबिक सर्च इंजन गूगल के सहयोग से केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय गूगल मैप पर टॉयलेट लोकेटर टूल की सुविधा शुरू करने जा रहा है.

15 से 30 नवंबर तक स्वच्छता पखवाड़ा मना रहा मंत्रालय पहले इस प्रयोग को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में आजमाएगा. एक अधिकारी के मुताबिक इस टूल से सार्वजनिक और सुलभ शौचालयों के साथ-साथ मेट्रो स्टेशन, मॉल, पेट्रोल पंप और अस्पताल जैसी सार्वजनिक जगहों में स्थित शौचालयों को भी जोड़ा जा रहा है. एक अन्य अधिकारी के मुताबिक एनसीआर के ऐसे शौचालयों की सूची तैयार करने का काम लगभग पूरा हो चुका है और यह सेवा अब किसी भी दिन शुरू हो सकती है.

गूगल मैप पर शौचालय उसी तरह खोजा जा सकेगा जैसे सिनेमा या अस्पताल जैसी कोई दूसरी सुविधा खोजी जाती है. यूजर को ऐप खोलकर सर्च बॉक्स में टॉयलेट, लैवेटरी, स्वच्छ, सुलभ या शौचालय में से कोई भी शब्द टाइप करना होगा और गूगल मैप बता देगा कि आपके नजदीक शौचालय कहां-कहां पर है. शौचालय साफ-सुथरा और इस्तेमाल करने के लायक है या नहीं, यह जानने के लिए यूजर फीडबैक का विकल्प भी है. शौचालयों की रेटिंग करने की सुविधा भी दी जाएगी.

एनसीआर से मिले फीडबैक के आधार पर इस सुविधा को अन्य शहरी क्षेत्रों में भी लागू किया जाएगा. इसे कामयाब बनाने के लिए देश के सभी 2,041 शहरी स्थानीय निकायों को इसमें शामिल करने की योजना है. इसके लिए स्थानीय निकायों के कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा.