उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिए दरवाजे खुले होने की बात कही है. हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में सपा और कांग्रेस मिलकर 300 से अधिक सीटों पर कब्जा कर सकती हैं. हालांकि अखिलेश ने यह भी साफ किया कि समाजवादी पार्टी (सपा) अपने बल पर चुनाव जीतने में सक्षम है.

दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में अखिलेश यादव का कहना था, ‘कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने नेताजी (मुलायम सिंह यादव) और मुझसे मुलाकात की थी. मैंने उनसे कहा कि कांग्रेस यदि हमारे साथ आती है तो हम राज्य की 404 सीटों में से 300 से अधिक सीटें जीत लेंगे.’ साथ ही उन्होंने कहा कि प्रशांत किशोर को नेताजी से किसने मिलवाया, यह वे जानना चाहते हैं. एक सवाल के जवाब में अखिलेश यादव का यह भी कहना था कि गठबंधन कुछ लेने और कुछ देने का नाम है. उनके मुताबिक गठबंधन होने की स्थित में वे कांग्रेस को जूनियर साझेदार के रूप में नहीं देखते.

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव पिछले महीने विधानसभा चुनाव में किसी पार्टी के साथ गठबंधन करने से इनकार कर चुके हैं. उन्होंने कहा था कि यदि कोई पार्टी सपा में विलय चाहती है तो उसका स्वागत है. इसके अलावा बीते सात नवंबर को अखिलेश यादव ने भी गठबंधन के बारे में फैसला नेताजी पर छोड़ने की बात कही थी.