ऑनलाइन रिटेलर कंपनी पेटीएम लाखों की ठगी का शिकार हो गई है. कंपनी ने इस ठगी को लेकर सीधे सीबीआई में मामला दर्ज करवाया है. कंपनी का आरोप है कि 48 लोगों ने उसके साथ 6.15 लाख रुपए की धोखाधड़ी की है.

खबरों के मुताबिक पेटीएम के लीगल मैनेजर एम शिवकुमार की ओर से दी गई शिकायत में कहा गया है कि कंपनी से जब भी किसी ग्राहक को खराब उत्पाद पहुंचता है तो कंपनी ग्राहक की शिकायत पर उसे वापस मंगा लेती है और उसे इसके पैसे लौटा देती है. साथ ही वापस आए खराब उत्पाद को मर्चेंट के पास वापस भेज दिया जाता है. शिवकुमार के मुताबिक यह पूरी प्रक्रिया कंपनी के कुछ चुनिंदा ग्राहक सेवा अधिकारियों की देखरेख में होती है. शिकायत में आगे कहा गया है कि पिछले दिनों इस प्रक्रिया में बड़ी धांधली सामने आई है. कंपनी के मुताबिक 48 मामलों में पाया गया कि ग्राहकों को खराब उत्पाद के पैसे वापस दे दिए गए लेकिन, उनसे उत्पाद वापस नहीं लिया गया. कंपनी का दावा है कि इस धोखाधड़ी से जो लोग जुड़े हुए हैं वे कंपनी की कार्यप्रणाली से भलीभांति वाकिफ हैं और उन्होंने इसका फायदा उठाते हुए ही इस ठगी को अंजाम दिया है.

खबरों के मुताबिक सीबीआई ने इस मामले में दिल्ली के रहने वाले पेटीएम के 15 ग्राहकों और कंपनी के कुछ अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. इस पूरे मामले में गौर करने वाली बात यह भी है कि पेटीएम की एक शिकायत पर ही सीबीआई ने यह मामला दर्ज कर लिया है जबकि आमतौर पर इस तरह के मामलों को सीबीआई केंद्र सरकार, सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के दखल के बाद ही दर्ज करती है.