फिदेल कास्त्रो के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई में एक प्रतिनिधि मंडल क्यूबा गया था. इसमें मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा भी शामिल थे. इनके अलावा कुछ और नेता भी इनके साथ गए थे.

सुनी-सुनाई यह है कि राजनाथ सिंह समेत पूरे प्रतिनिधिमंडल की ठीक से वहां आवभगत नहीं की गई. दूसरे देशों से जो मेहमान इस मौके पर आए थे, उनके लिए जो बैठने की व्यवस्था की गई थी उसमें सबसे आखिरी पंक्ति में भारत के गृह मंत्री राजनाथ सिंह को बैठने की जगह दी गई. सुनने में आ रहा है कि इस पर राजनाथ सिंह ने अपनी नाखुशी सिर्फ अपने साथ गए नेताओं से ही नहीं दिखाई बल्कि क्यूबा में काम कर रहे भारतीय विदेश सेवा के अधिकारियों से भी इसकी शिकायत की. राजनाथ सिंह को इस मौके पर बोलने का अवसर भी नहीं मिला. सुनी-सुनाई तो यह भी है कि सीताराम येचुरी तो यह कहते भी सुने गए कि अगर वे माकपा महासचिव के नाते क्यूबा गए होते तो उन्हें इससे ज्यादा भाव मिला होता.

नितिन गडकरी की बेटी की शादी इतनी शानो-शौकत से हुई तो रिसेप्शन इतना सादा क्यों था?

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी की बेटी की शादी बीते दिनों नागपुर में हुई. कई बड़े लोग इसमें शरीक होने गए. लेकिन शादी के बाद जो रिसेप्शन गडकरी ने दिया, उसमें खिलाए गए खाने के बारे में सुनने में आया है कि व्यवस्था बहुत सादी थी. सुनी-सुनाई यह है कि रिसेप्शन में खाने के बाद किसी मिठाई या किसी और दूसरे डेजर्ट तक की व्यवस्था नहीं थी.

जितने शानो-शौकत से शादी हुई उसके बाद खाने की सादी व्यवस्था के बारे में वहां जो लोग मौजूद थे, उनमें तरह-तरह की बातें हुईं. कोई कह रहा था कि रिसेप्शन उसी दिन हुआ जिस दिन जयललिता का अंतिम संस्कार हुआ, इसलिए गडकरी ने खाने-पीने की व्यवस्था सादी रखी. वहीं कुछ लोग यह कहते भी सुने गए कि इसके पीछे मीडिया में आई उस खबर की बड़ी भूमिका है जिसमें यह बताया गया था कि इस शादी के लिए कई निजी विमानों को किराये पर लिया गया और नोटबंदी के दौर में करोड़ों रुपये खर्च किए गए.

गायकों पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान है भाजपा!

जाने-माने भोजपुरी गायक और अभिनेता मनोज तिवारी को हाल ही भाजपा ने दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष बनाया. गायकों से भाजपा का प्रेम यहीं थमता नजर नहीं आ रहा. अब सुनी-सुनाई यह है कि उत्तर प्रदेश के चुनावों के लिए भाजपा हिंदी फिल्मों में गाना गाने वाले कई गायकों की सेवाएं लेने वाली है.

सुनने में आया है कि उदित नारायण और कैलाश खेर से चुनाव अभियान में इस्तेमाल करने के लिए गानों की रिकॉर्डिंग भी करा ली गई है. आने वाले दिनों में ये न सिर्फ भाजपा की चुनावी रैलियों में बजेंगे बल्कि रेडियो चैनलों पर भी इनके प्रसारण की योजना है. सुनने में तो यह भी आ रहा है कि आने वाले दिनों में और कुछ जाने-माने गायकों से भाजपा अपने लिए गाने गवाने वाली है.