मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह सरकार ने एक नया निर्देश जारी करते हुए सभी शैक्षणिक संस्थानों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्वामी विवेकानंद की तस्वीर लगाना अनिवार्य कर दिया है. इस नए निर्देश के अनुसार जो संस्थान इस आदेश का पालन नहीं करेंगे उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक प्रदेश के शिक्षामंत्री जयभान सिंह पवैया के कार्यालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि सभी सरकारी कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और अन्य कार्यालयों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विवेकानंद की तस्वीरें जल्द लगाई जायें. आदेश में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, डॉ. भीमराव अंबेडकर और राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की तस्वीरें लगाने के लिए भी कहा गया है. खबरों के मुताबिक शिक्षा विभाग ने संस्थाओं से इन तस्वीरों को केंद्रीय सूचना एवम् प्रसारण मंत्रालय के दिल्ली स्थित कार्यालय से प्राप्त करने के लिए कहा है.

सरकार के इस कदम का कांग्रेस ने विरोध किया है. प्रदेश के कांग्रेसी नेताओं का कहना है कि सरकार ये निर्णय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कहने पर ले रही है. इनके मुताबिक स्वामी विवेकानंद की छवि दक्षिणपंथी विचारधारा से मेल खाती है, इसलिए यह आदेश जारी किया गया है. राज्य कांग्रेस के प्रवक्ता केके मिश्रा ने कहा, ‘शैक्षणिक संस्थानों में विद्यार्थियों को प्रेरित करने के लिए पूर्व राष्ट्रपति और महान वैज्ञानिक डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, सर्वपल्ली राधाकृष्णन और पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की तस्वीरें लगवानी चाहिए.