टाटा संस द्वारा नटराजन चंद्रशेखरन को कंपनी का नया चेयरमैन बनाए जाने के फैसले पर साइरस मिस्त्री ने कड़ी आपत्ति जताई है. मिस्त्री के करीबी अधिकारियों के मुताबिक मिस्त्री जल्द ही कंपनी के इस फैसले को कोर्ट में चुनौती दे सकते हैं. साइरस मिस्त्री को पिछले साल 24 अक्टूबर को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था.

टाटा सन्स ने पिछले सप्ताह 12 जनवरी को बोर्ड मीटिंग में एन चंद्रशेखरन को नया चैयरमैन बनाने का निर्णय लिया था. खबरों के मुताबिक इस मीटिंग से एक दिन पहले मिस्त्री ने इस नियुक्ति की वैधता को चुनौती देते हुए बोर्ड मेंबर्स को एक मेल भेजा था. उन्होंने इसमें लिखा, ‘अभी यह मामला न्यायालय में है इसलिए चंद्रशेखरन की नियुक्ति अवैध है.’ हालांकि, मिस्त्री की ओर से आगे की रणनीति का खुलासा नहीं किया गया है.

टाटा संस के प्रवक्ता ने नटराजन चंद्रशेखरन की नियुक्ति पर कहा है कि कानूनी सलाहकारों से मशवरा लेकर ही यह नियुक्ति की गई है. साथ ही कंपनी के नियमों और कानून को ध्यान में रखकर ही यह निर्णय लिया गया है. नटराजन चंद्रशेखरन 21 फरवरी को अपना पदभार संभालेंगे.

इससे पहले साइरस मिस्त्री ने खुद को चेयरमैन पद से हटाए जाने के खिलाफ राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में याचिका दायर कर टाटा संस के निर्णय को चुनौती दी थी. अपनी इस याचिका में मिस्त्री ने टाटा संस और टाटा ट्रस्ट के बीच सांठगांठ का आरोप लगाया था. मिस्त्री फिलहाल टाटा संस के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल हैं.