डोनाल्ड ट्रंप द्वारा मुस्लिमों के अमेरिका आने को लेकर लगाई पाबंदी का खामियाजा भारतीय नागरिकों को भी भुगतना पड़ रहा है. जम्मू-कश्मीर के रहने वाले दो मुस्लिम एथलीटों को अमेरिकी दूतावास ने ट्रंप की वर्तमान नीति का हवाला देते हुए वीजा देने से इनकार कर दिया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक कश्मीर के रहने वाले दो एथलीट तनवीर हुसैन (ऊपर फोटो में) और आबिद खान को फरवरी में न्यूयॉर्क में होने वाली विश्व स्नो शू चैंपियनशिप 2017 में हिस्सा लेना था. खबर के अनुसार पिछले दिनों उन्होंने वीजा के लिए अमेरिकी दूतावास में आवेदन दिया था.

एक कश्मीरी समाचार पत्र को तनवीर हुसैन ने बताया, ‘वीजा आवेदन के बाद पिछले हफ्ते अमेरिकी दूतावास के अधिकारियों ने मेरा छह मिनट तक साक्षात्कार लिया. मेरे सभी डॉक्यूमेंटस पूरे थे फिर भी मुझे वीजा देने से इनकार कर दिया गया. अधिकारियों ने बताया कि अमेरिका की वर्तमान वीजा नीति के तहत उन्हें वीजा नहीं दिया जा सकता.’

इस मामले की पुष्टि प्रतियोगिता के आयोजकों ने भी कर दी है. न्यूयॉर्क के सर्नेक लेक क्षेत्र जहां इस प्रतियोगिता का आयोजन होना है के मेयर क्लेड रबिडॉ ने बताया है कि आबिद खान ने उन्हें पूरी घटना के बारे में बता दिया है.

उधर, दिल्ली स्थित अमेरिकी दूतावास के प्रवक्ता ने इस घटना पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया है. हालांकि, उन्होंने साफ़ किया है कि वीजा नीति को लेकर हाल ही में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकारी आदेश का अमेरिका जाने वाले भारतीय नागरिकों पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

बीते 27 जनवरी को डोनाल्ड ट्रंप ने सात मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों के अमेरिका आने पर पाबंदी लगाने का कार्यकारी आदेश जारी किया था. इसमें अन्य मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों के लिए भी वीजा नीति को सख्त किया गया है. इस आदेश के तहत युद्ध, राजनीतिक अस्थिरता, भूख और धार्मिक पूर्वाग्रहों से बेघर हुए विस्थापितों को अमेरिका में शरण देने का कार्यक्रम अगले तीन महीने तक निलंबित रहेगा.