‘कोई भी माई का लाल उंगली उठाकर यह नहीं कह सकता कि भाजपा के मुख्यमंत्रियों के दामन पर भ्रष्टाचार के दाग हैं.’

— राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृहमंत्री

राजनाथ सिंह का यह बयान उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में सपा सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए आया. उन्होंने कहा कि अगर किसी पर भ्रष्टाचार का आरोप लग जाए तो उसे अदालत से बरी होने तक राजनीति से अलग हो जाना चाहिए. उन्होंने भाजपा की सरकार बनने पर लड़कियों के लिए ग्रेजुएशन तक की मुफ्त पढ़ाई, युवाओं को प्रशिक्षण व रोजगार के लिए कर्ज देने और किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया.

‘मोदी जी और शरद पवार एक ही सिक्के के दो पहलू हैं’

— उद्धव ठाकरे, शिवसेना के अध्यक्ष

उद्धव ठाकरे का यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ संबंधों पर सफाई मांगते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘चुनाव से पहले प्रधानमंत्री मोदी एनसीपी को ‘नेचुरल करप्ट पार्टी’ बताते थे जबकि बाद में उन्होंने कहा कि वे पवार साहब की उंगली पकड़कर राजनीति में आए. उन्हें बताना चाहिए कि सच्चाई क्या है?’ मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस द्वारा बीएमसी में पारदर्शिता का सवाल उठाने पर शिवसेना प्रमुख ने कहा कि केंद्र सरकार के ही आर्थिक सर्वेक्षण में मुंबई को पारदर्शी शहरों में सबसे ऊपर रखा गया है. इससे पहले उद्धव ठाकरे ने कहा था कि महाराष्ट्र सरकार नोटिस पर है और उनके मंत्री इस्तीफे के साथ तैयार हैं.


‘तमिलनाडु के राज्यपाल को उत्तर प्रदेश के उदाहरण के आधार पर काम करना चाहिए.’

— पी चिदंबरम, कांग्रेस नेता और पूर्व वित्तमंत्री

चिदंबरम का यह बयान तमिलनाडु में जारी राजनीतिक अस्थिरता को लेकर आया. उन्होंने कहा कि अगर दोनों पक्ष सरकार बनाने के लिए पर्याप्त बहुमत का दावा कर रहे हैं तो उन्हें विधानसभा में बहुमत साबित करने का मौका देना चाहिए. 1998 में ऐसी ही स्थिति में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जगदंबिका पाल और कल्याण सिंह को विधानसभा में बहुमत साबित करने का मौका मिला था. मंगलवार को एआईएडीएमके की महासचिव शशिकला को आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा चार साल की सजा सुनाने के बाद तमिलनाडु में राजनीतिक संकट और गहरा गया है. हालांकि, चिदंबरम ने इस पर कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया. पिछले हफ्ते चिदंबरम ने कहा था कि राज्य की जनता शशिकला को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं करेगी.


मोदी सरकार ने उद्योगपतियों का एक भी रुपया माफ नहीं किया है.’

— अरुण जेटली, केंद्रीय वित्त मंत्री

अरुण जेटली का यह बयान मोदी सरकार द्वारा उद्योगपतियों के कर्ज माफ करने के कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों को खारिज करते हुए आया. उन्होंने कहा कि दरअसल राहुल गांधी अपनी ही पार्टी की पूर्ववर्ती सरकार पर आरोप लगा रहे हैं, क्योंकि आज बैंकों का ज्यादातर डूबा हुआ कर्ज (एनपीए) इसी सरकार के समय में दिया गया था. वित्त मंत्री ने नोटबंदी को राजनीतिक और आर्थिक तंत्र की सफाई के लिए उठाया गया कदम बताया. उत्तर प्रदेश को केंद्र से पर्याप्त आवंटन न मिलने के आरोपों को खारिज करते हुए अरुण जेटली ने कहा कि केंद्र सरकार सभी राज्यों को केंद्रीय कर में उनका हिस्सा दे रही है.


‘पाकिस्तान के सैन्य अधिकारियों को भारतीय लोकतंत्र से सीखना चाहिए.’

— कमर जावेद बाजवा, पाकिस्तानी सेना के प्रमुख

कमर जावेद बाजवा का यह बयान सेना और राजनीति को एक दूसरे से अलग रखने पर जोर देते हुए आया. द नेशन में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार बाजवा ने कहा, ‘सेना को सरकार चलाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और संविधान में तय दायरे में रहना चाहिए.’ उन्होंने अपने सैन्य अधिकारियों को येल यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर स्टीवन आई विक्लिंसन की किताब ‘आर्मी एंड नेशन’ पढ़ने की सलाह दी, जिसमें बताया गया है कि कैसे आजादी के बाद भारत अपनी सेना को सियासत से अलग रखने में सफल रहा. राहिल शरीफ के सेनाध्यक्ष बने बाजवा को लोकतंत्र का हिमायती माना जाता है. इससे पहले वे यह भी कह चुके हैं कि सेना को सरकार का सहयोगी होना चाहिए न कि प्रतिस्पर्धी.