‘क्या उत्तर प्रदेश को बाहर से किसी को गोद लेने की जरूरत है, क्या यहां पर नौजवान नहीं हैं?’

— प्रियंका गांधी, कांग्रेस नेता

प्रियंका गांधी ने यह बात रायबरेली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज करते हुए कही. प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को खुद को उत्तर प्रदेश का गोद लिया बेटा बताया था. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए ही राहुल गांधी और अखिलेश यादव ने हाथ मिलाया है. नोटबंदी को लेकर प्रियंका गांधी ने कहा प्रधानमंत्री मोदी हर जगह महिलाओं और बेटियों पर अत्याचार रोकने की बात करते हैं, लेकिन क्या नोटबंदी महिलाओं पर अत्याचार नहीं था? उन्होंने कहा कि जनता को झूठे वादे करने वालों को नहीं, बल्कि काम करने वालों को वोट देना चाहिए.

‘यहां काम करने के लिए आपको तेजी से खाल मोटी करनी पड़ती है.’

— उर्जित पटेल, भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर

आरबीआई गवर्नर का यह बयान नोटबंदी के बाद केंद्रीय बैंक की हो रही आलोचना को लेकर आया. एक समाचार चैनल के साथ साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद हालात पर तेजी से काबू पा लिया गया है. रिजर्व बैंक के मुखिया के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट का अनुमान बहुत थोड़े समय के लिए है और जल्द ही अर्थव्यवस्था फिर पटरी पर आ जाएगी. उर्जित पटेल ने आगे कहा कि 86 फीसदी पुराने नोटों को रद्द करने का लाभ सामने आने में थोड़ा वक्त लगेगा और इसे अंजाम तक पहुंचाने के लिए कुछ दूसरे काम भी करने होंगे.


‘उत्तर प्रदेश की जनता गोद लिए बेटे पर कभी भरोसा नहीं करेगी.’

— मायावती, बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख

बसपा प्रमुख का यह बयान इलाहाबाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए आया. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता मोदी सरकार की गलत नीतियों से काफी नाराज है. मायावती ने आगे कहा कि भाजपा डर रही है, इसलिए अब तक उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद का चेहरा नहीं घोषित कर पाई है. बसपा प्रमुख ने केंद्र सरकार पर आरएसएस का एजेंडा लागू करने और आरक्षण हटाने की कोशिश करने का आरोप लगाया. बसपा को पूर्ण बहुमत मिलने का दावा करते हुए मायावती ने वादा किया कि उनकी पार्टी की सरकार बनने पर नौकरियों की भर्ती प्रक्रिया को सरल बनाया जाएगा.


‘कांग्रेस सस्ती राजनीति के लिए अलगाववादियों की भाषा बोलने लगी है.’

— जितेंद्र सिंह, केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता

जितेंद्र सिंह का यह बयान कश्मीर में पत्थरबाजी करने वालों को सेनाध्यक्ष बिपिन रावत की हिदायत का बचाव करते हुए आया. उन्होंने कहा कि सेना प्रमुख ने चेतावनी नहीं दी है बल्कि लोगों से मुठभेड़ वाली जगहों से दूर रहने की अपील की है, ताकि उन्हें कोई नुकसान न हो. जितेंद्र सिंह ने कहा कि राजनीतिक दलों को सेना का मनोबल प्रभावित करने वाली राजनीति नहीं करनी चाहिए. बुधवार को सेना प्रमुख ने मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों पर पथराव करने वालों को देशद्रोही मानने और उनसे सख्ती से निपटने की बात कही थी. इस बयान को कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने घाटी में मुश्किलें बढ़ाने वाला बताया था.


‘लोगों को ब्रेक्जिट का विरोध करना चाहिए क्योंकि उन्हें जनमत संग्रह के समय इसकी शर्तें नहीं पता थीं.’

— टोनी ब्लेयर, ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री

टोनी ब्लेयर का यह बयान ब्रिटेन के यूरोपीय संघ में बने रहने का समर्थन करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘हमें इस बात की पूरी समझ होनी चाहिए कि हम किस दिशा में जा रहे हैं.’ ब्लेयर ने कहा कि यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के अलग होने (ब्रेक्जिट) पर जनमत संग्रह एक शुरुआत भर थी, जिस पर विचार करने के लिए लोगों को दूसरा मौका देना चाहिए. उन्होंने कहा कि ब्रेक्जिट दूसरे विश्वयुद्ध के बाद का सबसे बड़ा फैसला है जिससे जुड़ी बहस को इतनी आसानी से बंद नहीं किया जा सकता. पूर्व प्रधानमंत्री ने ब्रेक्जिट के विरोधियों से अपने राजनीतिक मतभेद भुलाकर एकजुट होने की अपील की है.