प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस बयान पर कि उनके पास कांग्रेस नेताओं की जन्मकुंडली है, आपने कहा था आपके पास मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की जन्मकुंडली मौजूद है. तो जरा हमें भी बताइए कि क्या लिखा है इनमें?

(हंसते हुए) जन्मकुंडली बांचने की दक्षिणा क्या देंगी आप, पहले यह बताइये!

आपने जन्मकुंडली बनाने का काम कब से शुरू कर दिया?

जब से मोदी जी ने शुरू किया है.

वैसे तो आप मोदी जी के कामकाज की खुलेआम आलोचना करते हैं. फिर आप उनके कुंडली बनाने वाले काम से इतना प्रभावित कैसे हो गए?

मैं उनसे कतई प्रभावित नहीं हूं. लेकिन मुझे यह समझ आ गया है कि भाजपा ने केंद्र और महराष्ट्र में जिस तरह से सत्ता का अतिक्रमण किया है, उसे रोकने के लिए भाजपा वालों की जन्म-कुंडलियां बनाना अब जरूरी हो गया है. मोदी जी और अमित शाह की कुंडलियां मैं बना चुका हूं. कब, कहां से किस की कुंडली की डिमांड आ जाए, कहा नहीं जा सकता.

अच्छा, यह बताइए कि मोदी जी की जो जन्मकुंडली आपके पास है, उसमें क्या खास है?

बाकी सब कुंडलियां इंसान बनाते हैं, यह एक शेर ने बनाई है.

मोदी जी के लिए आपने यह भी कहा था कि पहले कभी किसी प्रधानमंत्री का स्तर इतना नीचे नहीं गिरा. आखिर आप ऐसा क्यों कह रहे हैं?

बहुत साफ बात है. अब से पहले क्या किसी प्रधानमंत्री ने किसी दूसरे प्रधानमंत्री के बाथरूम में झांककर यह देखा था कि वह क्या पहन कर नहा रहा है! यह गिरने की पराकाष्ठा नहीं है क्या!

आप मानते हैं कि गोधरा दंगों के बाद बाल ठाकरे के मजबूत समर्थन की वजह से ही मोदी जी गुजरात में मुख्यमंत्री का पद बचा पाए. आपके पिताजी ने दंगों जैसी विकट स्थिति में भी मोदी जी का साथ नहीं छोड़ा था, फिर आप सामान्य स्थितियों में ही उनके विरोधी कैसे बन गए?

सामान्य स्थिति! पहले उन्होंने केन्द्र हथिया लिया और फिर राज्य, इसे आप सामान्य बात समझती हैं. हमने उनसे कहा था कि अगर केन्द्र में शिव सेना का प्रधानमंत्री नहीं बना सकते, तो कम से कम महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री तो शिव सेना का ही होना चाहिए. लेकिन उन्होंने हमारी एक नहीं सुनी. मेरे पिता दिवंगत बाल ठाकरे ने उनसे कहा था कि भाजपा केन्द्रीय स्तर पर हिंदू वोटों का बिखराव रोकेगी और शिवसेना राज्य स्तर पर. लेकिन अब उनकी नीयत खराब हो चुकी है.

बीएमसी (बृहन्मुंबई महानगर पालिका) चुनावों में आपने भाजपा के साथ 25 साल पुराना गठबंधन तोड़ दिया है. इतना बड़ा फैसला क्यों लेना पड़ा?

हम 25 साल से उनके साथ लटके-लटके पक गए थे. पके हुए फल को तोड़ना नहीं पड़ता, वह खुद ही पेड़ से टपक जाता है.

एनडी तिवारी और पप्पू कालाणी के भाजपा में शामिल होने पर, आपने ऐसा क्यों कहा कि भाजपा वाले कल को दाऊद इब्राहिम को भी पार्टी में शामिल कर सकते हैं?

शुक्र मनाइये कि मैंने सिर्फ दाऊद का ही नाम लिया, हाफिज सईद का नहीं!

क्या मतलब ?

(हंसते हुए) मतलब-वतलब कुछ नहीं, अपने बयानों की टीआरपी बढ़ाने के लिए कहीं भी, किसी का भी नाम उछाला जा सकता है.

नोटबंदी के संदर्भ में आपने कहा था कि पैसे के लिए लाइन में खड़ा होना देशभक्ति नहीं है. तो यह बताइए कि आपके लिए देशभक्ति के क्या मायने हैं?

महाराष्ट्र की सेवा!

क्या...?

अब्ब्ब्ब, मेरा मतलब पूरे देश की सेवा.

मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को आप अच्छा व्यक्ति बताते हैं. तो क्या इसका मतलब यह भी है कि वे महाराष्ट्र में अच्छा काम कर रहे हैं?

काम पर तो कुछ कहना अभी जल्दबाजी होगी लेकिन वे मुख्यमंत्री होकर भी क्लर्क की तरह ऊपर वालों के आदेशों का पालन जरूर अच्छे से कर रहे हैं.

क्या मतलब ?

आप किस बात की पत्रकार हैं, इतनी छोटी-छोटी बातों का मतलब भी नहीं समझतीं!

अच्छा यह बताइए कि शिवसेना की 50वीं वर्षगांठ के मौके पर आपने ऐसा क्यों कहा कि भाजपा के साथ 25 साल का गठबंधन बेकार गया?

25 साल के साथ से हमें क्या मिला? आज तक पार्टी से कोई प्रधानमंत्री या गृहमंत्री तक नहीं बन पाया. यहां तक कि हमारे ही राज्य में हमसे मुख्यमंत्री का पद तक छीन लिया गया.

एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में आपने कहा था कि महाराष्ट्र में मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं. ऐसा लग रहा है कि आप भाजपा सरकार से समर्थन वापस लेने की तैयारी कर रहे हैं?

तमिलनाडु में पन्नीरसेल्वम के विद्रोही तेवरों ने मुझ में बहुत जोश भर दिया है. यूं समझिए कि सोता हुआ शेर अब जाग गया है.

कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई के प्रवक्ता सचिन सावंत ने शिवसेना के लिए कहा है, ‘बीएमसी में दो दशकों तक सत्ता में रहने के बावजूद जिस पार्टी में अतिमक्रमण हटाने की कूव्वत तक नहीं, वह राज्य सरकार को क्या हटायेगी.’ इस बयान पर आपको क्या कहना है?

आपने वह कहानी तो सुनी होगी न, जिसमें सोए शेर के ऊपर चूहा कूदता रहता है. हम पहले राज्य और देश में भाजपा के अतिक्रमण को हटा लें, बाद में किसी और अतिक्रमण को हटाने के बारे में सोचेंगे.

सचिन सावंत का तो यह भी कहना है कि शिवसेना को सत्ता की लत है. यह बात कितनी सच है?

देश में सबसे बड़ी सत्ताखोर पार्टी का नेता क्या यह बोलने का मुंह रखता है!

आपका कहना है कि महाराष्ट्र में भाजपा आपको अपना बॉस माने, लेकिन यहां तो भाजपा के पास आपसे ज्यादा विधायक हैं, ऐसे में वह आपकी बात कैसे मान सकती है?

भाजपा वाले अगर बिग बॉस खेलने जाएंगे, तो वहां वो बिना कोई चूं-चपड़ किये किसी को भी ‘बिग बॉस’ मानने को तैयार हो जाएंगे. यहां उन्हें मुझे सिर्फ बॉस मानने में भी इतनी दिक्कत हो रही है!

पिछले दो दशकों में बीएमसी में सत्ता में रहने के बावजूद, उसमें व्याप्त भयंकर भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए आपने कुछ क्यों नहीं किया ?

नगर निगम में भ्रष्टाचार ऐसा मुद्दा है, जो मराठियों को पूरे देश के साथ एक स्तर पर ले आता है. हम नगर निगम के भ्रष्टाचार को खत्म करके देश के बाकी लोगों में हीनभावना नहीं भरना चाहते.

बाल ठाकरे की मराठी अस्मिता, राष्ट्रवादी तेवर और अंदाज आपसे ज्यादा राज ठाकरे में मिलते हैं. इस बारे में आपका क्या कहना है ?

(असहज होकर चश्मा ठीक करके उठते हुए)... मुझे पार्टी कार्यालय जाना है... कुछ और पूछना है आपको?

51 साल पुरानी पार्टी को गुजरात में चुनाव लड़ने के लिए 23 साल के एक लड़के, हार्दिक पटेल का सहयोग लेना पड़ा. यह कुछ अजीब नहीं है?

शेरों के झुंड में शावक, किशोर, युवा और बुजुर्ग, हर उम्र और हर रवैए के शेर होते हैं. वैसे भी यह हाइब्रिड का दौर है, हम मिक्स्ड-ब्रीड का परिणाम देखना चाहते हैं.

अच्छा बस एक अंतिम सवाल. यह बताइये, अगर बीएमसी और विधानसभा चुनाव बहुमत से जीतने के लिए गैर-हिंदू और गैर-मराठी लोगों के वोटों की जरूरत हो तो आप क्या करेंगे ?

... यूपी से हैं न आप, बहुत देर टिक गईं, अब जल्दी निकलिए यहां से.