हवाई यात्रा के दौरान फोन कॉल्स और इंटरनेट की सुविधा चाहने वाले यात्रियों के लिए दूरसंचार विभाग का यह प्रस्ताव अच्छी खबर है. इस प्रस्ताव में भारतीय वायु सीमा में हवाई यात्रा के दौरान यात्रियों को वॉयस, वीडियो और डेटा की सुविधा उपलब्ध करवाने की बात कही गयी है. इससे पहले नागरिक विमानन मंत्रालय इस विषय पर काम कर रहा था लेकिन, अब इसका जिम्मा दूरसंचार विभाग ने ले लिया है. विभाग से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक इस मुद्दे पर एक जल्द ही अंतिम नीति बना दी जाएगी.

जानकारी के अनुसार योजना को मूर्त रूप देने के लिए भारतीय टेलीग्राफ एक्ट में संशोधन होने हैं. दूरसंचार विभाग ने सचिवों की एक समिति को महीने भर पहले इसके लिए योजना का एक ड्राफ्ट भेजा था. लेकिन गृहमंत्रालय और अंतरिक्ष विभाग ने कुछ सवालों के साथ इसे संशोधन के लिए लौटा दिया था.

हवाईयात्रा के दौरान कनेक्टिविटी बनाए रखने के दो तरीके हैं. या तो सिग्नल जमीन से भेजे जाएं या फिर उन्हें सेटेलाइटों के जरिये भेजा जाए. इस प्रस्ताव में दूरसंचार विभाग का ध्यान दूसरे विकल्प पर है. नीति के मसौदे पर जताई गई चिंताओं का संबंध सेटेलाइटों के इस्तेमाल से है. अधिकारियों का मानना है कि इस महीने के अंत तक प्रस्ताव में संशोधन कर उचित जानकारी के साथ इसे एक बार फिर समिति को भेज दिया जाएगा.