रामजस कॉलेज में हुई हिंसा के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय में जारी घमासान थम नहीं रहा. हर दिन किसी न किसी छात्र संगठन की ओर से यहां राजनीतिक प्रदर्शन किए जा रहे हैं. मंगलवार को वामपंथी संगठनों के विरोध मार्च के बाद आज गुरुवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद यानी एबीवीपी का ‘सेव डीयू मार्च’ आयोजित हुआ. राजनीतिक गहमागहमी के मद्देनजर दिल्ली विश्वविद्यालय परिसर में भारी संख्या में अर्धसैनिक बल तैनात हैं.

एबीवीपी का यह मार्च आर्ट फैकल्टी से शुरू होकर विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन, खालसा कॉलेज, मिरांडा कॉलेज, एसआरसीसी, डीआरसी और रामजस कॉलेज तक गया. इस रैली का अंत आर्ट फैकल्टी में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति पर हुआ. एबीवीपी ने इस मार्च के जरिए छात्रों से कम्युनिस्ट संगठनों के ‘भारत-विरोधी एजेंडा’ के खिलाफ आवाज उठाने का आह्वान किया है. एबीवीपी ने दावा किया है कि यह प्रदर्शन आम छात्रों का है और इसमें खासी तादाद में विद्यार्थियों ने शिरकत की है.

पिछले हफ्ते 22 फरवरी को रामजस कॉलेज में वामपंथी छात्र संगठनों के सेमिनार में जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद और शेहला राशिद के शामिल होने को लेकर एबीवीपी ने विरोध प्रदर्शन किया था. इस दौरान वामपंथी छात्र संगठनों और एबीवीपी के बीच हिंसक झड़प हुई थी. वहीं कारगिल युद्ध में शहीद एक सैनिक की बेटी गुरमेहर कौर के एबीवीपी के खिलाफ लिखी पोस्ट वायरल होने के बाद मसले ने और तूल पकड़ लिया था.