गोवा के पूर्व कांग्रेसी विधायक विश्वजीत राणे ने क्या राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के लिए सीट छोड़ी है? सूत्रों के हवाले से द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की खबर में यह संभावना जताई गई है. राज्य विधानसभा में गुरुवार को हुए विश्वासमत प्रस्ताव के दौरान विश्वजीत सदन से वॉकआउट कर गए थे. इसके बाद उन्होंने न सिर्फ विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दिया, बल्कि कांग्रेस भी छोड़ दी.

सूत्रों के हवाले से खबर में बताया गया है कि राज्य के कुछ और विधायक भी कांग्रेस छोड़ सकते हैं. इनमें सबसे बड़ा नाम राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री प्रतापसिंह राणे का हो सकता है. अभी हाल में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान प्रतापसिंह राणे पोरिएम सीट से और उनके पुत्र विश्वजीत वालपोई से चुने गए हैं. खबर के मुताबिक प्रतापसिंह राणे की सीट से भाजपा के टिकट पर विश्वजीत के चुनाव लड़ने की संभावना है. जबकि विश्वजीत की सीट से मुख्यमंत्री पर्रिकर चुनाव मैदान में उतर सकते हैं.

मुंबई में कांग्रेस पार्टी से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि प्रतापसिंह राणे को भी भाजपा कोई बड़ा पद दे सकती है. इस सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि राणे के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस में किसी को अचरज नहीं हुआ है. इसकी आशंका पहले से थी. वहीं राणे ने कहा, ‘पार्टी जिस तरह से काम कर रही है, उसे देखते हुए में बेहद निराश हूं. यह नैराश्य ही पार्टी और विधायक पद से मेरे इस्तीफे की शक्ल में बाहर आया है. मैं अब अपने क्षेत्र के लोगों से बात कर के तय करूंगा कि किस पार्टी में शामिल हुआ जाए.’

वहीं केंद्रीय मंत्री और गोवा भाजपा के प्रभारी नितिन गडकरी ने मुंबई में कहा, ‘कांग्रेस वहां (गोवा में) कई समस्याओं से जूझ रही है. मैं इस बारे में सब कुछ तो सार्वजनिक तौर पर नहीं बता सकता. लेकिन इतना जरूर कह सकता हूं कि एक (विश्वजीत) ने आज (गुरुवार को) इस्तीफा दे दिया है. जल्दी ही कांंग्रेस पार्टी के कुछ अन्य विधायक भी इसी तरह का कदम उठा सकते हैं.’