गोवा में कांग्रेस पार्टी के टूटने की आशंकाएं मजबूत होती दिख रही हैं. शुक्रवार को पार्टी के एक और विधायक ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया. एक अंग्रेजी चैनल के मुताबिक विधायक सैवियो रोड्रिग्ज ने इस्तीफा देते हुए कहा कि वे राहुल गांधी को अपने नेता के तौर पर स्वीकार नहीं कर सकते. वहीं राज्य में कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर कांग्रेस के विधायकों को खरीदने का आरोप लगाते हुए मामले को राज्यसभा में उठाया. विपक्ष के शोरगुल के चलते राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित भी करनी पड़ी.

सैवियो रोड्रिग्ज के कांग्रेस छोड़ने से पहले गुरुवार को भी पार्टी के एक विधायक विश्वजीत राणे ने विधायकी और पार्टी, दोनों को छोड़ दिया था. उन्होंने भी सरकार बना पाने में अक्षम रहने के लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से नाराजगी जताई थी. राणे पूर्व मुख्यमंत्री प्रताप सिंह राणे के पुत्र हैं. राणे के इस्तीफे के बाद ही चर्चाएं गर्म होने लगी थी कि अभी कुछ और विधायक कांग्रेस का साथ छोड़ सकते हैं.

उधर, शुक्रवार को राज्यसभा में कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने इस मसले को उठाया. उन्होंने भाजपा पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप लगाया और इस मामले में राज्यपाल की भूमिका पर भी सवाल उठाए. राज्य में लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने चर्चा की मांग रखी. संसदीय कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इसके जवाब में कहा कि यदि इस मुद्दे पर मूल प्रस्ताव लाया जाता है तो सरकार चर्चा के लिए तैयार है. राज्यसभा उपसभापति पीजे कुरियन ने भी कहा कि राज्यपाल के आचरण पर तभी चर्चा की जा सकती है जब सदन में मूल प्रस्ताव लाया जाए. इसके बाद कांग्रेसी सांसद ‘लोकतंत्र की हत्या बंद करो’ का नारा लगाते हुए हंगामा करने लगे. हंगामा होता देख सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई.