‘मैं कॉमेडी शो करता रहूंगा, इससे मेरा काम प्रभावित नहीं होगा.’

— नवजोत सिंह सिद्धू, पंजाब के पर्यटन और शहरी विकास मंत्री

नवजोत सिंह सिद्धू का यह बयान कैबिनेट मंत्री बनने के बाद कॉमेडी शो करने या न करने के सवाल पर आया. उन्होंने कहा, ‘मैं रात में रिकॉर्डिंग करूंगा और सुबह ऑफिस में मिलूंगा. यह काम मुश्किल जरूर है, लेकिन जारी रखूंगा.’ सिद्धू ने आगे कहा कि उन्होंने सांसद रहते हुए कॉमेडी शो और क्रिकेट कमेंट्री चालू रखी थी और अगर जनता को परेशानी होती तो वह उन्हें इस बार विधानसभा न भेजती. हालांकि जानकारों के मुताबिक उनका यह फैसला मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ मनमुटाव पैदा कर सकता है.

‘राहुल गांधी की सादगी ही मोदी को हरा सकती है.’

— राज बब्बर, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के अध्यक्ष

राज बब्बर का यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुकाबला करने वाले नेता के बारे में पूछे जाने पर आया. वे पहले भी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में कांग्रेस की करारी हार के बाद उपाध्यक्ष राहुल गांधी का बचाव कर चुके हैं. बुधवार को उन्होंने कहा था कि हर बार नेतृत्व को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. और नेतृत्व का काम टीम तैयार करना होता है जो चुनाव में जीत या हार के लिए जिम्मेदार होती है. शुक्रवार को जदयू नेता संजय सिंह भी प्रधानमंत्री मोदी के विकल्प के तौर पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील कर चुके हैं.


‘गोवा में नितिन गडकरी और पर्रिकर ने प्रजातंत्र पर डकैती डाली है.’

— दिग्विजय सिंह, कांग्रेस के महासचिव

दिग्विजय सिंह का यह बयान गोवा में सबसे बड़ी पार्टी होकर भी कांग्रेस की सरकार न बनने पर आया. एनडीटीवी से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘भाजपा के लोग कहते हैं कि कांग्रेस वाले सोते रहे और हम जागते रहे. चोरी तो रात में ही होती है.’ कांग्रेस महासचिव ने कहा कि वे केवल गंभीर आरोप नहीं लगा रहे हैं, बल्कि यह भी जानना चाहते हैं कि नितिन गडकरी के झोले में क्या था. कांग्रेस और विधानसभा से इस्तीफा दे चुके विश्वजीत राणे को लेकर दिग्विजय सिंह ने कहा कि विश्वजीत ने अपने पिता प्रताप सिंह राणे के राजनीतिक जीवन पर धब्बा लगाने की कोशिश की है.


‘कांग्रेस अब इतिहास बन चुकी है, अब उसके लिए कुछ नहीं बचा है.’

— विनय कटियार, भाजपा सांसद

विनय कटियार का यह बयान एक के बाद एक चुनाव हार रही कांग्रेस पर तंज करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस अपने संगठन को सुधारे या न सुधारे, यह उसका अंदरूनी मामला है, लेकिन इतना तय है कि अब वह कभी सत्ता में वापस नहीं आने वाली.’ भाजपा सांसद के मुताबिक कांग्रेस की जिन एक या दो राज्यों में सरकारें हैं, वे भी बहुत जल्दी चली जाएंगी. पंजाब को छोड़कर चार राज्यों में कांग्रेस की करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी नेता प्रिया दत्त सहित कई नेताओं ने संगठन में सुधार लाने की बात कही है.


‘प्रधानमंत्री मोदी को उनकी तेजी से सीखने की क्षमता के लिए दाद देनी पड़ेगी.’

— प्रणब मुखर्जी, राष्ट्रपति

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने यह बात एक आयोजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली को अलहदा बताते हुए कही. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने राज्य से सीधे केंद्र की राजनीति में आकर विदेश संबंधों से लेकर अर्थव्यवस्था जैसे जटिल विषयों को गहराई से समझने में बिल्कुल ही समय नहीं लगाया. अपने राजनीतिक जीवन को याद करते हुए राष्ट्रपति मुखर्जी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को सबसे प्रभावशाली प्रधानमंत्री बताया. उनका यह भी कहना था कि देश का शासन अच्छी तरह से चलाने के लिए मजबूत सरकार के साथ-साथ शक्तिशाली विपक्ष भी जरूरी होता है.


‘उत्तर कोरिया से एक स्तर से ज्यादा खतरा बढ़ने पर उसके खिलाफ सैन्य कार्रवाई का ही विकल्प होगा.’

— रेक्स टिलरसन, अमेरिका के विदेश मंत्री

रेक्स टिलरसन का यह बयान एशिया पैसिफिक क्षेत्र के दौरे के दूसरे दिन दक्षिण कोरिया में आया. सियोल में दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि वे चीजों को सैन्य टकराव की तरफ नहीं ले जाना चाहते हैं, लेकिन उत्तर कोरिया को परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम को आगे बढ़ाने की इजाजत नहीं दी जाएगी. अमेरिका के विदेश मंत्री का यह भी कहना था कि उत्तर कोरिया को लेकर अमेरिका की ‘रणनीतिक धैर्य’ की नीति खत्म हो चुकी है, इसलिए सुरक्षा और कूटनीति के नए उपायों पर विचार किया जा रहा है.