‘गोवा में भाजपा की सरकार एक भ्रष्ट गठबंधन है.’

— संजय राऊत, शिवसेना सांसद

संजय राऊत का यह बयान गोवा की मनोहर पर्रिकर सरकार पर निशाना साधते हुए आया. उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में प्रदेश की जनता ने भाजपा को खारिज कर दिया था. संजय राऊत ने आगे कहा कि गोवा में भाजपा की सरकार अस्थायी है और कभी भी गिर सकती है. गोवा में सीटों के मामले में कांग्रेस से पिछड़ने के बावजूद भाजपा ने निर्दलियों और अन्य छोटे दलों के समर्थन से सरकार गठित की है. वहीं, उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर शिव सेना सांसद ने कहा कि उन्हें अब विवादित बयानों से बचना चाहिए और विकास की बातें करनी चाहिए.

‘मंदिर बनाना सरकार का काम नहीं है, उसका काम अड़चनें दूर करना है.’

— साक्षी महाराज, भाजपा सांसद

साक्षी महाराज का यह बयान उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के बारे में पूछे जाने पर आया. उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है, इसलिए मंदिर निर्माण की अड़चनों को दूर करने का काम किया जाएगा. साक्षी महाराज ने आगे कहा, ‘किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है. हम राष्ट्रवादी हैं और जनता को दिया अपना वादा पूरा करेंगे.’ हालांकि, उनका यह भी कहना था कि उनकी पार्टी राष्ट्रवाद और सबका साथ-सबका विकास नारे को साथ लेकर चलेगी. बूचड़खानों को बंद करने के सवाल पर भाजपा सांसद ने कहा कि यह काफी पुरानी समस्या है, जिसे खत्म करने में थोड़ा वक्त लगेगा.


‘तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट को सकारात्मक फैसला देना चाहिए.’

— मणिशंकर अय्यर, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता

मणिशंकर अय्यर का यह बयान सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक को चुनौती देने वाली एक याचिका पर आया. उन्होंने कहा, ‘मेरी चिंता देश की 10 लाख मुस्लिम महिलाओं को लेकर है जो इसकी वजह से परेशानी का सामना करती हैं. मैं तीन तलाक के खिलाफ हूं.’ अय्यर ने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट को तीन तलाक शब्द पर प्रतिबंध लगाना चाहिए और इसका उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई करनी चाहिए. बीते हफ्ते मुस्लिम समुदाय के 10 लाख से ज्यादा लोगों ने तीन तलाक की एक याचिका पर हस्ताक्षर किए थे. वहीं, आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ इसे मजहबी मामला बताकर बाहरी दखल का विरोध कर रहा है.


‘सरकार चाहे सपा की हो या भाजपा की, कानून-व्यवस्था में कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है.’

— मायावती, बसपा प्रमुख

बसपा प्रमुख मायावती का यह बयान उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में एक बसपा नेता की हत्या को लेकर आया. उन्होंने कहा, ‘योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने साफ कर दिया है कि वह विकास नहीं करेगी, बल्कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का एजेंडा लागू करेगी.’ इससे पहले रविवार को मायावती ने कहा था कि योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने ब्राह्मण समुदाय को निराश किया है. वहीं, सोमवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से छेड़छाड़ होने के अपने आरोपों को लेकर बसपा प्रमुख ने कहा कि उनकी पार्टी दो-तीन दिन में इस मामले को अदालत में चुनौती देगी.


‘क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए अफगानिस्तान में टिकाऊ शांति आवश्यक है.’

— नवाज शरीफ, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

नवाज शरीफ का यह बयान सदभावना संदेश के तहत अफगानिस्तान के साथ लगी पाकिस्तान सीमा को खोलने का आदेश देते हुए आया. दोनों देशों के साझा रिश्तों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि आतंकवादियों के खात्मे के लिए पाकिस्तान अफगानिस्तान सरकार के साथ काम करता रहेगा. नवाज शरीफ का यह भी कहना था कि सीमाओं को लंबे समय तक बंद रखना दोनों देशों के नागरिकों और अर्थव्यवस्था के हित में नहीं है. बीते महीने लाल शहबाज कलंदर की दरगाह पर आत्मघाती हमले के बाद पाकिस्तान ने अफगानिस्तान सीमा पर तोरखम और चमन चौकियों से आवाजाही रोक दी थी. इस हमले में 80 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी.