गिलगित-बाल्टिस्तान इलाके को पांचवां सूबा बनाने की कवायद पाकिस्तान के लिए मुश्किल होती दिख रही है. स्थानीय लोग इस प्रस्ताव का जमकर विरोध कर रहे हैं. गिलगित-बाल्टिस्तान पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) का हिस्सा है. पाकिस्तान सरकार की इस योजना के प्रति वहां के लोगों में काफी रोष देखा जा रहा है. आंदोलनकारी नारा लगा रहे हैं, ‘बच्चा-बच्चा कट मरेगा, पर ये सूबा नहीं बनेगा.’

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार पाकिस्तान सरकार की इस योजना के विरोध में वकीलों के नेतृत्व में स्थानीय लोगों ने आंदोलन छेड़ दिया है. लोगों का आरोप है कि पाकिस्तान अपने फायदे के लिए उसके इलाके को चीन के हाथों बेच रहा है. पाकिस्तान पहले भी अक्साई चीन का कुछ इलाका चीन को सौंप चुका है.

पिछले हफ्ते खबर आई थी कि विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज के नेतृत्व वाली समिति ने गिलगिट-बाल्टिस्तान को पाकिस्तान का पांचवां सूबा यानी राज्य बनाने का प्रस्ताव दिया है. पाकिस्तान के अंतर-प्रांतीय समन्वय मंत्री रियाज हुसैन पीरजादा ने मीडिया को बताया था कि समिति की सिफारिशों पर अमल करने के लिए पाकिस्तान के संविधान में संशोधन किया जाएगा. पाकिस्तान में अभी बलूचिस्तान, खैबर पख्तूनख्वा, पंजाब और सिंध चार राज्य हैं.

पाकिस्तान के अखबार डॉन के अनुसार, यह कदम चीन की सलाह पर उठाया जा रहा है. चीन का मानना है कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे यानी सीपीईसी को मजबूत कानूनी आधार देने के लिए इस इलाके को पाकिस्तान का पूर्ण राज्य बनाना अनिवार्य है.