पिछले कुछ सालों से भारत के कार बाजार में क्रॉसओवर गाड़ियों की खासी डिमांड देखने को मिली है. हैचबैक की सहूलियत, लगेज के लिए सेडान जितनी जगह और सड़कों पर दौड़ते समय किसी दमदार एसयूवी जैसा लुक. इन सारी खूबियों के साथ यह सेगमेंट ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने में बखूबी सफल रहा है. अब तक की बात की जाए तो मारुति-सुजुकी, ह्युंडई और फोर्ड जैसी कंपनियां इस सेगमेंट की मुख्य खिलाड़ियों में शुमार थीं. लेकिन हाल ही में लॉन्च हुई डब्ल्यूआर-वी के साथ अब होंडा भी इस दौड़ में शामिल हो गयी है.

होंडा ने डब्ल्यूआर-वी को अपनी ही हैचबैक जैज़ के प्लेटफॉर्म पर तैयार किया है. कंपनी ने इस नई पेशकश में जैज़ और सिडान की लीजैंड कही जाने वाली सिटी, दोनों ही गाड़ियों की खूबियों को शुमार किया है. यही बात है जो डब्ल्यूआर-वी को अपने सेगमेंट की दूसरी गाड़ियों से कहीं ज्यादा खास बनाती है. माना जा रहा है कि होंडा की इस नयी कार का मुकाबला सब-4 मीटर सेगमेंट में पहले से मौजूद मारुती विटारा ब्रेजा, ह्युंडई आई-20 और फोर्ड इकोस्पोर्ट जैसे खिलाड़ियों से होगा.

डब्ल्यूआर-वी की खूबियों की बात करें तो कहना गलत नहीं होगा यह गाड़ी अपने-आप में एक फुल-पैकेज क्रॉसऑवर साबित होती है. तो आइए जानते हैं, ‘कैसे यह गाड़ी आपके लिए कार ऑफ द ड्रीम साबित हो सकती है?’

लुक्स और एक्सटीरियर्स

डब्ल्यूआर-वी के बाहरी लुक की बात की जाए तो होंडा ने कई अहम बदलाव कर इस गाड़ी को जैज़ से ज्यादा हैवी और मस्क्युलर लुक देने की कोशिश की है. इसमें कंपनी पूरी तरह से सफल भी नजर आती है. जैज़ की तुलना में उठा हुआ फेस (बोनट), सामने की तरफ लगी बोल्ड क्रोम ग्रिल्स और सिल्वर रंग की रूफ-रेल्स इसे भारी-भरकम लुक देती हैं.

इसके अलावा बड़े बंपर के साथ लगे फॉग लैंप, पॉवरफुल स्मोक्ड हैडलैंप्स और टॉप एंड मॉडल में लगे डे-टाइम रनिंग लैंप (डीआरएल) इसे किसी एसयूवी सरीखा आकर्षक लुक देते हैं. 16 इंच के अलॉय व्हील्स के साथ डब्ल्यूआर-वी की ग्राउंड क्लियरेंस 188 एमएम है जो कि जैज़ से लगभग 23 मिमी ज्यादा है. लंबाई की बात करें तो यह जैज़ से तकरीबन 44 मिलीमीटर ज्यादा लंबी है. इस तरह यह कार इसी सेगमेंट की कई गाड़ियों से खासी बड़ी नजर आती है.

होंडा डब्ल्यूआर-वी लुक
होंडा डब्ल्यूआर-वी लुक

डब्ल्यूआर-वी के रियर लुक की बात की जाए तो एल शेप डिजाइन के टेल लैंप्स के साथ डुअल टोन बंपर और नया टेलगेट गाड़ी को शानदार लुक देता है. इसके अलावा नीचे की तरफ सेट की गयी नंबर प्लेट भी पीछे से देखने पर इसे ऊंची गाड़ी का फील देती है. यह नयी कार बाजार में पांच कलर ऑप्शन्स के साथ उपलब्ध है जिनमें- पर्ल व्हाइट, ओशियन ब्ल्यू, रैड, ऑरेंज और ब्लैक शामिल है.

फीचर्स और इंटीरियर

डब्ल्यूआर-वी का डैशबोर्ड काफी हद तक जैज़ से मिलता-जुलता है. अलग बात यह है कि कंपनी ने इसे पहले से कहीं ज्यादा टेक्नो एडवांस्ड बनाया है. डब्ल्यूआर-वी में होंडा ने नयी सिटी की तरह सात इंच का डिजीपैड और टचस्क्रीन इंफोटेंमेंट सिस्टम दिया है. इसमें ब्लूटूथ ऑडियो स्ट्रीमिंग, टेलीफोन फंक्शन, एसडी कार्ड नेविगेशन सिस्टम जैसी सुविधाएं हैं. साथ ही, एचडीएमआई पॉर्ट के साथ 12 वोल्ट पॉवर आउटलेट और यूएसबी सॉकेट के अलावा वाई-फाई और मिररलिंक कनेक्टिविटी जैसे फीचर भी हैं.

इसके अलावा गाड़ी के स्टियरिंग में टिल्ट (ऊपर-नीचे) और टेलीस्कोपिक (आगे-पीछे) एडजस्टमेंट की सुविधा मौजूद है. डब्ल्यूआर-वी अपने सेगमेंट की पहली कार है जिसमें सनरूफ भी है. यह आपको किसी लग्जरी गाड़ी जैसी फील तो देगी ही, किसी हिलस्टेशन की आपकी यात्रा को हमेशा के लिए यादगार भी बना देगी.

होंडा डब्ल्यूआर-वी का डैशबोर्ड
होंडा डब्ल्यूआर-वी का डैशबोर्ड

प्रीमियम फीचर्स की बात करें तो गाड़ी के डीजल वैरिएंट में आपको कीलेस एंट्री के साथ पुश बटन स्टार्ट/ स्टॉप और क्रूज कंट्रोल का ऑप्शन भी मिलेगा जो आपको हाइवे पर ड्राइविंग के दौरान एक बेहतर अनुभव देता है. बैठने के लिहाज से भी होंडा ने डब्ल्यूआर-वी पर खासा ध्यान दिया है. फ्रंट सीट का हैडरेस्ट ज्यादा सेफ और आरामदायक है. साथ ही ड्राइविंग सीट पर आपको अच्छा खासा थाई सपोर्ट भी मिलता है जो लंबी यात्राओं में थकने से आपको बचाए रखेगा.

यदि हैडरूम और लैगरूम की बात की जाए तो गाड़ी में फ्रंट और बैक दोनों सीटों पर इनके लिए भरपूर जगह दी गयी है. इसके चलते ड्राइविंग सीट को आगे-पीछे खिसकाने के साथ अपनी ऊंचाई के हिसाब से भी एडजस्ट किया जा सकता है. फ्रंट के अलावा पिछली सीट भी काफी आरामदायक है जिस पर तीन लोग आराम से बैठ सकते हैं. साथ ही पिछली सीटों को जरूरत पड़ने पर फोल्ड भी किया जा सकता है. फ्रंट सीटों पर सेंटर आर्म रेस्ट मौजूद है जो बैठने वालों को बढ़िया आराम देता है. इस आर्म रेस्ट में स्टोरेज के साथ दो चार्जिंग सॉकेट भी हैं जिनसे आप अपने गैजेट्स को आसानी से चार्ज कर सकते हैं.

होंडा डब्ल्यूआर-वी इनसाइड
होंडा डब्ल्यूआर-वी इनसाइड

इसके अलावा यदि आप अपनी ही गाड़ी से परिवार के साथ छुट्टियों पर जाने के शौकीन हैं तो डब्ल्यूआर-वी आपको एक बार फिर इंप्रेस कर सकती है. इसका बूट स्पेस 363 लीटर का है जो कि लगेज रखने के लिहाज से काफी बड़ा है. इसके अलावा गाड़ी का बूट लिप बहुत नीचे डिजाइन किया गया है जिससे लोड-अनलोड करते समय सामान ज्यादा नहीं उठाना पड़ता.

परफॉर्मेंस और सेफ्टी

होंडा ने डब्ल्यूआर-वी को पेट्रोल और डीजल दोनों वैरिएंट में लॉन्च किया है. यदि पैट्रोल वैरिएंट की बात करें तो इसमें 1.2 लीटर आई-वीटेक इंजन का इस्तेमाल किया गया है जो 6000 आरपीएम पर 89 बीएचपी पॉवर और 4800 आरपीएम पर 110 एनएम का अधिकतम टॉर्क जनरेट करता है. वहीं डीजल वैरिएंट में 1.5 लीटर आई-डीटेक इंजन 3600 आरपीएम पर 99 बीएचपी पॉवर और 1750 आरपीएम पर 200 एनएम का अधिकतम टॉर्क जनरेट करता है. डब्ल्यूआर-वी के पैट्रोल वेरिएंट में 5-स्पीड मैनुअल गियर ट्रांसमिशन है. वहीं डीजल वैरिएंट में 6-स्पीड मैनुअल गियर ट्रांसमिशन दिया गया है जो हाइवे पर चलते समय आपको किसी से पिछड़ने नहीं देगा.

ड्राइविंग एक्सपीरियंस की बात करें तो दोनों वेरिएंट को चलाने में आपको काफी अंतर महसूस होगा. पेट्रोल की तुलना में डीजल इंजन के साथ डब्ल्यूआर-वी की परफॉर्मेंस बेहद दमदार लगती है. गियर शिफ्टिंग के लिए गाड़ी में नया लेवल उपयोग में लिया गया है जिसकी वजह से गियर बदलते समय आपको थोड़ी असहजता महसूस हो सकती है.

माइलेज की बात करें तो पेट्रोल वैरिएंट के साथ डब्ल्यूआर-वी शहर की सड़कों पर 10 से 13 और हाइवे पर 15 से 17 किमी/ली. तक की माइलेज देगी. वहीं जबरदस्त परफॉर्मेंस के साथ इसका डीज़ल इंजन शहर में 18 से 20 और हाइवे पर 23 से 25 किमी/ली. की लुभावनी माइलेज देता है.

होंडा डब्ल्यूआर-वी एयर बैग्स
होंडा डब्ल्यूआर-वी एयर बैग्स

इसके अलावा होंडा ने डब्ल्यूआर-वी में सेफ्टी का भी बखूबी ख्याल रखा है. डब्ल्यूआर-वी एडवांस्ड काँपेटिबिलिटी इंजीनियरिंग (एसीई) बॉडी स्ट्रक्चर से लैस है. इसके अलावा इस कार में आपको डुअल एयरबैग्स के साथ एबीएस स्टैंडर्ड फीचर के तौर पर मिलते हैं. साथ ही इसमें ड्राइवर सीट बेल्ट रिमांइडर भी मौजूद है. पार्किंग सेफ्टी को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने गाड़ी में तीन अलग एंगल के साथ रिवर्स पार्किंग कैमरा भी दिया हैं जो गाड़ी पार्क करते समय किसी भी भिडंत से आप और गाड़ी दोनों को सुरक्षित रखने में मदद करता है.

कमियां

इन तमाम खूबियों के बावजूद डब्ल्यूआर-वी में सुधार की गुंजाइश भी नजर आती है. खासकर पेट्रोल वैरिएंट में. दरअसल कंपनी ने डीजल वेरिएंट के मुकाबले इसमें कई प्रीमियम फीचर्स देने में कंजूसी बरती है. इनमें कीलैस एंट्री, पुश स्टार्ट/स्टॉप बटन और क्रूज कंट्रोल जैसे फीचर शामिल हैं. इसके अलावा यह वेरिएंट हाइवे पर बहुत ही औसत प्रदर्शन देता है, जो कि आपको थोड़ा निराश कर सकता है.

डीज़ल वेरिएंट की बात की जाए तो चलते समय इसका इंजन ज्यादा आवाज करता है. जिसे बेहतर केबिन इंस्युलेशन के जरिए कम किया जा सकता था. इसके अलावा दोनों मॉडलों में ऑटोमेटिक गीयर ट्रांसमिशन ऑप्शन की कमी भी खूब खलती है.

इंटीरियर की बात करें तो यहां फिनिशिंग में सुधार की गुंजाइश नज़र आती है जिससे गाड़ी को अंदर से और प्रीमियम लुक मिल सकता था. इसके अलावा डब्ल्यूआर-वी में रियर एसी मौजूद नहीं है जो गर्मियों में पीछे बैठने वालों को परेशान कर सकता है. गाड़ी की बैक सीट पर एडजस्टेबल हैडरेस्ट नहीं होने के साथ जैज़ वाली मैजिक सीटों का विकल्प भी इस गाड़ी से नदारद है. यह होता तो रियर सीट कहीं ज्यादा आरामदेह हो सकती थी.

जानकारों के मुताबिक अगर गाड़ी का व्हील साइज थोड़ा बड़ा रखा जाता तो ज्यादा ग्राउंड क्लियरेंस के साथ लुक्स के मामले में भी यह और बेहतर हो सकती थी. इसके अलावा होंडा द्वारा डब्ल्यूआर-वी की कीमतों में भी कुछ रियायत रहती तो निश्चित तौर पर यह गाड़ी ज्यादा ग्राहकों को लुभाने में सफल रह सकती थी.

कुल मिलाकर सत्याग्रह डब्ल्यूआर-वी को 5 में से 3.5 चक्कों की रेटिंग देता है.