भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के प्रशासकों की समिति ने आईपीएल के दौरान भुगतान व्यवस्था में बदलाव को मंजूरी दी है. खबर के मुताबिक बीसीसीआई अब राज्य संघों को उनके मैदान पर आयोजित होने वाले मैच से पहले फंड जारी करेगा. पूर्व नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) विनोद राय की अध्यक्षता वाली इस समिति में इतिहासकार रामचंद्र गुहा और विक्रम लिमये और डायना एडुल्जी सदस्य हैं.

खबर के मुताबिक प्रत्येक राज्य क्रिकेट संघ को एक आईपीएल मैच की मेजबानी के लिए 60 लाख रुपये मिलते हैं. इसमें आधी रकम यानी 30 लाख रुपये संबंधित आईपीएल फ्रेंचाइजी मैच से पहले देती हैं. इसके बाद बीसीसीआई बाकी रकम लीग खत्म होने के दो हफ्ते बाद चुकाता रहा है. अब नए दिशा-निर्देश के तहत क्रिकेट संघों को पूरे पैसे मैच से पहले ही मिल जाएंगे.

प्रशासकों की समिति के साथ बैठक के बाद एक राज्य क्रिकेट संघ के अध्यक्ष ने पीटीआई को बताया कि समिति ने संघों की मांग पर सहमति जताते हुए भुगतान संबंधी नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इस बैठक में कुल 10 राज्य क्रिकेट संघ के प्रतिनिधि मौजूद थे. दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग आईपीएल का आयोजन पांच अप्रैल से लेकर 21 मई, 2017 तक होना है.