‘उत्तर प्रदेश में बीजेपी के लिए गाय मम्मी है और पूर्वोत्तर में यमी.’  

— असदुद्दीन ओवैसी, एआईएमआईएम के अध्यक्ष

​असदुद्दीन ओवैसी ने यह बयान भाजपा के ‘गो प्रेम’ पर सवाल उठाते हुए आया. उन्होंने भाजपा पर गोरक्षा के मामले में राजनीतिक लाभ के लिए जगह के हिसाब से रुख बदलने का आरोप लगाया. भाजपा की कोशिशों को पाखंड बताते हुए असदुद्दीन आवैसी ने कहा कि भाजपा वहीं पर हिंदुत्व का प्रचार करती है जहां उसे राजनीतिक लाभ दिखता है. भाजपा ने पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में अगले साल चुनाव को देखते हुए अपनी सरकार बनने पर अन्य राज्यों की तरह गोहत्या और बीफ पर प्रतिबंध न लगाने की बात कही है. ईसाई बहुल इन राज्यों में बीफ सामान्य खानपान का हिस्सा है.

‘जो अपने बाप का न हुआ वह किसी और का क्या होगा.’

— मुलायम सिंह यादव, सपा के संरक्षक

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का यह बयान अपने बेटे और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लेकर आया. विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अखिलेश यादव द्वारा पार्टी पर कब्जा जमाने को लेकर उन्होंने कहा कि जिंदगी में अखिलेश ने जितना अपमान किया, आज तक किसी ने नहीं किया था. पार्टी की हार का ठीकरा अखिलेश पर फोड़ते हुए मुलायम सिंह यादव ने कहा कि कांग्रेस के साथ गठबंधन करना सबसे बड़ी गलती थी. सपा संरक्षक का यह भी कहना था कि अखिलेश ने ऐसी पार्टी से हाथ मिला लिया, जिसने उन पर तीन बार ‘जानलेवा हमले’ करवाए थे. एक चुनावी सभा में इसी हमले वाली बात का जिक्र करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अखिलेश यादव पर निशाना साधा था.



‘छत्तीसगढ़ में गाय की हत्या करने वालों को फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा.
  

— रमन सिंह, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री रमन सिंह का यह बयान गुजरात में गोहत्या संशोधन विधेयक पारित होने से जुड़े एक सवाल पर आया. उनसे पूछा गया था कि क्या छत्तीसगढ़ में ऐसा कोई कानून बनाया जाएगा. इस पर उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में कहां गोवध हो रहा है, क्या बीते 15 वर्षों में ऐसा कोई मामला सामने आया है? इससे पहले उत्तर प्रदेश के एक मंत्री ने कहा था कि गोहत्या करने वालों की टांगें तोड़ देनी चाहिए. उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद अवैध बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई के बाद अन्य राज्यों में गोरक्षा के प्रयासों में तेजी देखी जा रही है.


‘पाकिस्तान को अलग-थलग करने की चाहत रखने वालों को हमारे बढ़ते रुतबे को देखना चाहिए.’   

— कमर जावेद बाजवा, पाकिस्तान के सेना प्रमुख

जनरल कमर जावेद बाजवा का यह बयान भारत पर निशाना साधते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान के मित्र देश आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के बारे में हमारी कोशिशों से अच्छी तरह से परिचित हैं.’ भारत का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि वैश्विक समुदाय से अलग-थलग करने की चाह रखने वाले देशों को देखना चाहिए कि पाकिस्तान के मित्र उसे कितना महत्व देते हैं. बीते साल उड़ी आतंकी हमले के बाद से भारत आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अलग-थलग करने की रणनीति पर काम रहा है.