जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रगान पर नया विवाद पैदा हो गया है. जम्मू विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के सदस्यों ने कश्मीरी छात्रों पर राष्ट्रगान का अपमान करने का आरोप लगाया है. इसके बाद उन्होंने विश्वविद्यालय में आयोजित एक खेल आयोजन में रुकावट डाल दी. हालांकि, विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस आरोप को खारिज किया है. विश्वविद्यालय में खेल और शारीरिक शिक्षा विभाग के निदेशक अवतार सिंह जसरोटिया ने एबीवीपी को राष्ट्रगान के मुद्दे पर राजनीति न करने की सलाह देते हुए कहा है, ‘जिन लोगों ने राष्ट्रगान का सम्मान किया अगर आप उनके साथ भी इस तरह का बर्ताव करेंगे तो फिर आप उन लोगों से क्या अपेक्षा कर सकते हैं जो कश्मीर घाटी में रहते हैं.’

एबीवीपी ने एक फोटो के हवाले से दावा किया है कि बीते सोमवार को खेल आयोजन के उद्घाटन के दौरान जब राष्ट्रगान बजाया जा रहा था, उस वक्त दो कश्मीरी छात्र आपस में बात कर रहे थे. उधर, एक कश्मीरी छात्र ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘शुक्रवार को एक फुटबॉल मैच के बीच में एबीवीपी की जिद पर राष्ट्रगान बजाया गया. इसके बाद हम लोगों ने खड़े होकर इसका सम्मान किया. इसके बावजूद उन्होंने आगे खेल नहीं होने दिया.’

जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल एनएन वोहरा के सुझाव पर पहली बार अंतर-विश्वविद्यालयीन (इंटर-यूनिवर्सिटी) खेलों का आयोजन किया जा रहा है. इसमें जम्मू क्षेत्र और कश्मीर घाटी के छात्र हिस्सा ले रहे हैं.