राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनके परिजनों के खिलाफ भाजपा का हमला जारी है. खबरों के मुताबिक मंगलवार को भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने एक नई कंपनी और उसकी जमीन को लेकर लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा, ‘लालू प्रसाद यादव का एक ही फंडा है कि तुम मुझे जमीन दो मैं तुम्हारा काम करा दूंगा.’

खबरों के मुताबिक भाजपा नेता ने कहा कि राबड़ी देवी के मुख्यमंत्री रहते हुए ओम प्रकाश कत्याल एवं अमित कत्याल की आइसबर्ग इंडस्ट्रीज प्राइवेड लिमिटेड को बिहटा में बीयर की फैक्ट्री लगाने में मदद की गई, जिसके एवज उन्होंने करोड़ों की जमीन लालू यादव के परिवार को सौंप दी. सुशील कुमार मोदी के मुताबिक इसके लिए कत्याल परिवार ने अपनी एक कंपनी एके इंफोसिस्टम प्राइवेट लिमिटेड को जरिया बनाया, जिसमें तेजस्वी यादव, तेज प्रताप, चन्दा यादव और रागिनी लालू को 2014 में निदेशक बनाया गया था. अब इसके सारे शेयर राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव के पास हैं.

सुशील कुमार मोदी ने सवाल किया कि इसमें तेज प्रताप और तेजस्वी यादव के निदेशक बनते ही कात्याल परिवार इससे अलग क्यों हो गया? लालू परिवार का इसमें 55,000 रुपये का ही निवेश क्यों है? भाजपा नेता का कहना था, ‘क्यों कत्याल परिवार ने जमीन खरीदी और कुछ साल बाद जमीन सहित पूरी कंपनी लालू के परिवार को दे दी? कहीं यह शराब फैक्ट्री लगाने में मदद के एवज में तो नहीं सौंपी गई थी?’

सुशील कुमार मोदी का यह भी कहना था कि इस कंपनी के पास पटना शहर में करोड़ों रूपये की जमीनें है, जिनका मालिकाना हक अब लालू के परिवार के पास है. उन्होंने लालू प्रसाद यादव से अपनी संपत्ति का पूरा ब्यौरा सार्वजनिक करने की मांग की है.

सोमवार को लालू प्रसाद यादव ने सुशील कुमार मोदी के मिट्टी और मॉल से जुड़े आरोपों का जवाब दिया था. उन्होंने माना था कि निर्माणाधीन मॉल की जमीन का मालिकाना हक उनके बेटों के पास है. लेकिन, उन्होंने मिट्टी खरीद में घोटाले के आरोपों को बेबुनियाद और उन्हें बदनाम करने की साजिश बताया था.