‘अगले दो साल में बुंदेलखंड का जल संकट दूर कर दिया जाएगा.’  

— योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का यह ऐलान बुंदेलखंड यात्रा के दौरान झांसी में आया. उन्होंने बुंदेलखंड में 20 घंटे बिजली देने और उसे एक्सप्रेस-वे के जरिए दिल्ली से जोड़ने घोषणा की. इसके अलावा दो किसानों की खुदकुशी को लेकर जिला प्रशासन से रिपोर्ट भी मांगी. योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि प्रदेश में अब कोई भी भूखा नहीं सोएगा और सभी गरीबों और बेसहारा लोगों का राशन कार्ड बनाया जाएगा. मुख्यमंत्री ने भाजप कार्यकर्ताओ को कानून का पालन करने की नसीहत दी.

तेज बहादुर यादव को बर्खास्त करने के बजाय व्हिसलब्लोअर जैसी तवज्जो मिलनी चाहिए थी.’  

— मनीष तिवारी, कांग्रेस के प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री

पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी का यह बयान खराब खाने की शिकायत करने वाले जवान तेज बहादुर यादव की बर्खास्तगी का विरोध करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘उसने बीएसएफ की भोजन व्यवस्था की खामियों को सामने लाने की कोशिश की थी, लेकिन उसे नहीं सुना गया.’ मनीष तिवारी ने कहा कि तेज बहादुर यादव ने जवानों की समस्या उठाकर देश की सेवा की है. उनका यह भी कहना था कि सरकार एक तरफ पारदर्शिता को लेकर प्रतिबद्ध होने का दावा करती है, दूसरी तरफ व्यवस्था में बदलाव के लिए खामियों को उजागर करने वालों के साथ ऐसा बर्ताव करती है. तेज बहादुर यादव ने जनवरी में खराब खाने की शिकायत करते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर डाला था.


‘शशिकला और दिनाकरन को निकालने के बाद ही दोनों खेमों का विलय हो पाएगा.’  

— केपी मुनुसामी, एआईएडीएमके के पन्नीरसेल्वम खेमे के नेता

पन्नीरसेल्वम खेमे के नेता केपी मुनुसामी ने यह बात तमिलनाडु के सत्तारुढ़ दल एआईएडीएमके के दोनों गुटोंं में विलय की शर्तों को रखते हुए कही. उन्होंने कहा, ‘हम चाहते हैं कि शशिकला और दिनाकरन को महासचिव और उप महासचिव पद से हटाया जाए और सीबीआई से पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता ने निधन की जांच कराई जाए.’ पन्नीरसेल्वम खेमे ने शशिकला खेमे के बयानों से नाराज होकर यह शर्तें रखी हैं, जिनमें कहा जा रहा था कि पलानीसामी राज्य के मुख्यमंत्री बने रहेंगे और शशिकला को किसी दबाव में हटाया नहीं जाएगा.


‘इंडोनेशिया की आधुनिक इस्लामिक परंपरा पूरी दुनिया के लिए नजीर है.’  

— माइक पेन्स, अमेरिका के उपराष्ट्रपति

अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेन्स का यह बयान जकार्ता में इंडोनेशिया के उदारवादी इस्लाम की तारीफ करते आया. उन्होंने कहा कि अमेरिका आतंकवाद से लड़ने में इंडोनेशिया का सहयोग लेता रहेगा. माइक पेन्स ने साफ किया कि ट्रंप प्रशासन सभी मुस्लिम बहुल देशों के प्रवासियों पर प्रतिबंध नहीं लगाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिका में उन सभी लोगों का स्वागत है जो उनकी तरह अपने मूल्यों और विचारों में उदार हैं. उपराष्ट्रपति ने नवंबर में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दक्षिण पूर्व एशियाई देशों की यात्रा पर जाने की घोषणा की.