‘भाजपा के खिलाफ सभी अच्छे लोगों को एकजुट हो जाना चाहिए.’   

— अरविंद केजरीवाल, दिल्ली के मुख्यमंत्री

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का यह बयान भाजपा के खिलाफ गठबंधन की चर्चा करते हुए आया. केजरीवाल ने हाल ही में केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन से मुलाकात की है. इससे पहले वे नीतीश कुमार और ममता बनर्जी जैसे मुख्यमंत्रियों के साथ मंच साझा कर चुके हैं. विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि गोवा की हार अप्रत्याशित नहीं थी, लेकिन पंजाब में पार्टी का प्रदर्शन अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा. आम आदमी पार्टी के संयोजक ने पंजाब में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से छेड़खानी को जिम्मेदार बताया.

‘मुस्लिम भाजपा को वोट नहीं देते, लेकिन हमने उनका उचित ख्याल रखा है.’  

— रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय कानून मंत्री

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का यह बयान भाजपा सरकारों द्वारा मुस्लिमों की उपेक्षा करने के आरोपों का खंडन करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘भाजपा के 13 मुख्यमंत्री हैं, पूरे देश पर शासन है. लेकिन हमने क्या किसी मुस्लिम को परेशान किया?’ केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि भाजपा के खिलाफ विपक्ष के लंबे अभियान के बावजूद लोगों के आशीर्वाद से पार्टी आज सत्ता में है. उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी देश की विविधता और संस्कृति का पूरा सम्मान करती है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में लगातार दुष्प्रचार करने वाले वामपंथियों और पत्रकारों से उन्हें शिकायत है.


‘हम राहुल गांधी मुक्त कांग्रेस की मुहिम चलाएंगे.’

— बरखा शुक्ला सिंह, दिल्ली महिला कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष

बरखा शुक्ला सिंह का यह बयान कांग्रेस से छह साल के लिए निष्कासन के बाद आया. उन्होंने एक बार फिर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी का नेतृत्व करने में ‘मानसिक तौर पर अयोग्य’ बताया. बरखा शुक्ला सिंह ने आगे कहा कि राहुल गांधी को कांग्रेस और इसकी विरासत की जानकारी नहीं है. पार्टी से अपने निष्कासन को अवैध बताते हुए उन्होंने इसके खिलाफ कानूनी मदद लेने की बात कही. इससे पहले उन्होंने दिल्ली नगर निगम चुनाव में टिकट बटंवारे में महिलाओं की अनदेखी का आरोप लगाते हुए दिल्ली में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन और राहुल गांधी की आलोचना की थी.


‘अरुणाचल प्रदेश में जगहों का नाम बदलना हमारा कानूनी अधिकार है.’  

— लू कांग, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग का यह बयान अरुणाचल प्रदेश में छह जगहों के नाम बदलने पर भारत की आपत्तियों को खारिज करते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘भारत-चीन सीमा के पूर्वी हिस्से पर चीन का रुख बहुत साफ और स्थिर है.’ लू कांग ने आगे कहा कि इन छह जगहों के नामों का मानकीकरण दक्षिणी तिब्बत (अरुणाचल प्रदेश) के मोम्बा और तिब्बती चीनी जैसे मूल निवासियों द्वारा पीढ़ियों से इस्तेमाल किए जा रहे नामों के आधार पर किया गया है, जिसे बदलना संभव नहीं हैं. तिब्बती धर्म गुरू दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश यात्रा को मंजूरी देेने की प्रतिक्रिया में चीन ने जगहों के नाम बदलने का यह कदम उठाया है.