अभिनेता आमिर खान ने 16 साल से चला आ रहा सिलसिला तोड़ते हुए आखिरकार पुरस्कार समारोह के हिस्सा ले ही लिया. यही नहीं, उन्होंने सम्मान लेने से भी परहेज नहीं किया, जो कि वे इससे पहले तक करते आए हैं. उन्हें सोमवार को मुंबई में हुए एक कार्यक्रम के दौरान आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) प्रमुख मोहन भागवत ने दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड से सम्मानित किया.

आमिर को यह विशेष पुरस्कार 2016 की बड़ी हिट फिल्म ‘दंगल’ में उनके अभिनय और योगदान के लिए दिया गया. पार्श्व गायिका लता मंगेशकर की अध्यक्षता वाले दीनानाथ मंगेशकर ट्रस्ट की ओर से उन्हें यह सम्मान दिया गया. ट्रस्ट अलग-अलग क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को इस अवॉर्ड से सम्मानित करता है. इस मौके पर आमिर ने कहा, ‘मैं आज जहां भी हूं, इसका श्रेय मेरी फिल्मों के लेखकों कोे जाता है. मैं यहां निर्देशकों और लेखकों के बेहतरीन काम की वजह से हूं. मैं उन सभी का शुक्रिया अदा करता हूं और लता जी, दीनानाथ मंगेशकर ट्रस्ट और पूरे मंगेशकर परिवार का भी, जिन्होंने मुझे यह सम्मान दिया.’

समारोह में ‘दंगल’ के निर्देशक नीतेश तिवारी और फिल्म की पूरी टीम मौजूद थी. इस दौरान मुख्य अतिथि मोहन भागवत ने कहा, ‘सम्मान जीतने वाले लोग समाज के लिए प्रेरणा स्रोत होते हैं. ऐसे ही उनका काम भी. वे अपने क्षेत्रों में जो काम करते हैं, वह राष्ट्र निर्माण में सहायक सिद्ध होता है.’ गौरतलब है कि आमिर डेढ़ दशक से ज्यादा वक्त से देश में होने वाले पुरस्कार/सम्मान समारोहों से दूर हैं. वे न इनमें शामिल होते हैं और न ही कोई अवॉर्ड लेते हैं. क्योंकि वे उन्हें ‘विश्वसनीय नहीं मानते.’ लेकिन खबरों के मुताबिक, दीनानाथ मंगेशकर सम्मान के लिए जब लता मंगेशकर ने खुद उन्हें फोन किया, तो वे मना नहीं कर सके.

कपिल देव, वैजयंती माला सहित ये अन्य लोग भी सम्मानित किए गए

कपिल देव (क्रिकेट), वैजयंतीमाला बाली (सिनेमा), किशोर देशपांडे (समाज सेवा), विश्वनाथ कराद (विश्व शांति केंद्र के संस्थापक हैँ, इन्हें समर्पित जीवन अवॉर्ड दिया गया), विजय राजाध्यक्ष (साहित्य), उदय निर्गुणकर (शास्त्रीय गायिका कौशिकी चक्रवर्ती पर संपादकीय लेखन).