24 जनवरी 1950 को संविधान सभा ने जन-गण-मन को देश का राष्ट्रगान घोषित किया. इसे गुरूदेव रबीन्द्रनाथ टैगोर ने लिखा था. टैगोर ने गीत यह भारत भाग्य विधाता यानी भारत के भविष्य का निर्माण करने वालों को संबोधित कर लिखा है. इस गान में हिमालय, विंध्य की पहाड़ियों से लेकर, गंगा-यमुना और पंजाब से लेकर दक्षिण तक का जिक्र है. यह गीत शांत भाव से देश और उसकी संपन्नता का गुणगान करता है.

आमतौर पर राष्ट्रगान भव्य ऑर्केस्ट्रा के साथ गाया जाता है लेकिन पिछले कुछ सालों में जन-गण-मन के कई और संस्करण सुनने को मिले हैं. ये संस्करण राष्ट्रगान गाए जाने के निर्धारित तरीकों में कुछ बदलाव कर तैयार किए गए हैं. यहां पर कुछ उदाहरण हैं जिनमें संगीतकारों ने देशभक्ति और कला के मेल से कुछ नया तैयार किया है.

बैजू धर्मराजन

कोच्चि के गिटारिस्ट बैजू धर्मराजन ने अपने तरीके से राष्ट्रगान का जो संस्करण तैयार किया है वह कानों में पड़ते ही आप पहचान लेंगे कि यह कर्नाटक शैली में रचा गया है. गिटार की झंकृत कर देने वाली आवाज के साथ ड्रम बीट्स को भी मिलाया गया है. धर्मराजन को देखकर गिटार सीखने वाले समझ सकते हैं कि अनोखे अंदाज में गिटार पर राष्ट्रगान जैसी ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण धुनों को किस तरह बजाया जाता है.

Play

आशु ब्रेकलेस

ऊंचे बास पर तेज ड्रम बीट के साथ इलेक्ट्रिक गिटार पर बजाया गया राष्ट्रगान का यह संस्करण बहुत लाउड है. इसमें इतनी तेजी से गिटार बजाया गया है कि गाने का स्वरूप ही बदल गया है या कहिए थोड़ा बिगड़ गया है. साफ है कि ये तेज रफ्तार चलने वाले युवाओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है.

Play

शांतनु अरोड़ा

शांतनु अरोरा ने राष्ट्रगान को जो नया रूप दिया है वह मेलोडी से भरपूर है. यह वर्जन क्लासिक गिटार पर बजाया गया है. यह इंस्ट्रूमेंटल गाना पंद्रह सेकंड के इंट्रोडक्शन के साथ शुरू होता है और 90 के दशक के लोकप्रिय अमेरिकन बैंड ‘मैजी स्टार’ की याद दिलाता है. इसकी विशेष बात यह है कि राष्ट्रगान बजने के दौरान पूरे समय एक जैसी मधुरता बनी रहती है. यह अकेली परफार्मेंस ही यह बताने के लिए बहुत है कि अरोड़ा एक निपुण गिटारिस्ट हैं.

Play

मंगलोर स्टूडेंट्स

राष्ट्रगान का यह संस्करण मंगलोर के छात्रों ने सन 2012 में बनाया था. इसकी धुन में क्लासिक और इलेक्ट्रिक गिटार दोनों इस्तेमाल किए गए हैं. इस वादन की एक और खास बात है बांसुरी जिसे इसमें विशेष महत्व दिया गया है. इस वीडियो में सुनने के लिए मधुर संगीत है और देखने के लिए वादकों के वादन के साथ समुद्री लहरों की ताल.

Play

नाइजेल ब्रिटो

यह संस्करण क्लासिक गिटार पर बजाया गया है. यह सुरीला होने के साथ इतना सादा है कि अपनी सादगी से ही मोह लेता है. शायद इसीलिए यह साउंड क्लाउड पर अब तक करीब 75 हजार बार सुना जा चुका है.