उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हिंसा से जुड़ी खबरों को आज के कई अखबारों ने अपने पहले पन्ने पर जगह दी है. खबरों के मुताबिक मंगलवार को जिले के कई इलाकों में पथराव, गोलीबारी और आगजनी हुई. प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि प्रशासन ने बीते गुरुवार को दो समुदायों के बीच हुई हिंसा के पीड़ितों को मुआवजा नहीं दिया है और न ही उनके रहने की सही व्यवस्था की है. आखिरी जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर के एसपी सिटी संजय सिंह और एसपी ग्रामीण रफीक अहमद को तत्काल प्रभाव से उनके पदों से हटा दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने कलकत्ता हाईकोर्ट के न्यायाधीश सीएस कर्णन को न्यायपालिका और न्यायिक प्रक्रिया की अवमानना का दोषी मानते हुए छह महीने की सजा सुनाई है. यह खबर भी आज के अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. शीर्ष अदालत ने सुनवाई के बाद उन्हें तुरंत गिरफ्तार करने का आदेश दिया था. इसके अलावा दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा द्वारा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और अन्य के खिलाफ सीबीआई में शिकायतें दर्ज कराने की खबर को भी अखबारों ने प्रमुखता से छापा है.

15 लाख करोड़ रुपये की 1200 से अधिक परियोजनाएं लेट-लतीफी के शिकार

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा निगरानी किए जाने के बावजूद बुनियादी ढांचे से संबंधित परियोजनाएं समय से पूरी नहीं हो पा रही है. द एशियन एज में प्रकाशित खबर के मुताबिक 15 लाख करोड़ रुपये की 1200 से अधिक परियोजनाएं लेट-लतीफी की शिकार हैं. इन्हें समय पर पूरा न करने की वजह से इनकी लागत भी 15 लाख करोड़ से बढ़कर 17 लाख करोड़ रुपये पहुंच गई है. इन परियोजनाओं में अधिकांश रेल, सड़क, ऊर्जा, नागरिक उड्डयन, स्वास्थ्य जैसे महत्वपूर्ण क्षत्रों से संबंधित हैं.

बताया जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुनियादी ढांचे के विकास पर हर महीने केंद्रीय मंत्रालयों और राज्यों के सचिवों के साथ बैठक कर उनमें परियोजनाओं को समय पर पूरा करने पर जोर देते हैं. इस दौरान परियोजनाओं को समय से पूरा न कर पाने की जो वजहें सामने आती हैं उनमें इनमें भूमि अधिग्रहण से जुड़ी समस्याएं, जरुरत के मुताबिक पर्याप्त रकम आवंटित न हो पाना, वन और पर्यावरण मंत्रालय की मंजूरी मिलने में देरी और कुशल मानव संसाधनों की कमी होना प्रमुख हैं.

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाई

नीदरलैंड्स के हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) ने कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है. भारतीय नौसेना के इस पूर्व अधिकारी को पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने जासूस बताकर मौत की सजा सुनाई थी. दैनिक भास्कर ने इसे पहले पन्ने पर जगह दी है. अखबार के मुताबिक आईसीजे ने पाकिस्तान से इस पर एक रिपोर्ट भी मांगी है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर फैसले की जानकारी दी.

अखबार ने कानून के जानकारों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान आईसीजे का फैसला मानने के लिए बाध्य नहीं है लेकिन ऐसा न करके वह इस अंतरराष्ट्रीय न्यायिक मंच पर अलग-थलग पड़ जाएगा. जानकार बताते हैं कि इसके बाद अगर पाकिस्तान किसी मामले में शिकायत लेकर आईसीजे पहुंचा तो वहां उसकी सुनवाई नहीं होगी. भारत ने आठ मई को इस संबंध में अंतरराष्ट्रीय अदालत में याचिका दायर की थी.

चुनाव आयोग ने ईवीएम में छेड़छाड़ के दावे को एक बार फिर खारिज किया

चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में छेड़छाड़ के आम आदमी पार्टी के दावे को एक बार फिर खारिज कर दिया है. दैनिक जागरण ने इस खबर को मुख्य पृष्ठ पर जगह दी है. अखबार ने आयोग से जुड़े सूत्रों के हवाले से कहा है कि ईवीएम में सीक्रेट कोड नहीं होता साथ ही इसका मदरबोर्ड भी नहीं बदला जा सकता है. सूत्र ने बताया कि कोई वोटर मशीन का बटन सिर्फ एक बार ही दबा सकता है. आयोग ने ईवीएम विवाद पर 12 मई को सर्वदलीय बैठक बुलाई है.

मंगलवार को आम आदमी पार्टी ने दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र में ईवीएम में छेड़छाड़ का प्रदर्शन किया था. आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने इस डेमो को देते हुए दावा किया था कि ईवीएम में एक सीक्रेट कोड होता है जिसे मशीन में फीड कर देने से सारे वोट किसी एक खास पार्टी को ही दिये जा सकते हैं. आप विधायक ने यह दावा भी किया था कि आयोग की ईवीएम का मदरबोर्ड सिर्फ डेढ़ मिनट में ही बदला जा सकता है.

कश्मीरी पाकिस्तानी नहीं हैं, इनके पास अपने मुद्दे हैं : फारूक अब्दुल्ला

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और श्रीनगर से सांसद फारूक अब्दुल्ला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कश्मीर समस्या के समाधान के लिए राजनीतिक रूख अपनाने की अपील की है. द टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को कश्मीर की जमीनी स्थिति की जानकारी दी. नेशनल कॉन्फ्रेंस प्रमुख अब्दुल्ला ने कहा, ‘कश्मीरी पाकिस्तानी नहीं हैं. कश्मीरी लोगों के पास अपने मुद्दे हैं जिन्हें केंद्र सरकार द्वारा सुलझाये जाने की जरुरत है. ये लोग पाकिस्तान के साथ नहीं जाना चाहते हैं.’ फारूक अब्दुल्ला ने माकपा महासचिव सीताराम येचुरी से भी कश्मीर मुद्दे पर बात की.

आज का कार्टून

ईवीएम की विश्वसनीयता को लेकर चल रहे विवाद पर द इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित आज का कार्टून :