केरल की कोच्चि मेट्रो में 23 ट्रांसजेंडर कर्मचारी भी नियुक्त किए जा रहे हैं. चयनित किए गए 530 कर्मचारियों की सूची में ये शामिल हैं. डेक्कन क्रॉनिकल के मुताबिक, ट्रांसजेंडरों को उनकी योग्यता के हिसाब से टिकट खिड़की पर या हाउसकीपिंग (देख-भाल की व्यवस्था) आदि में तैनात किया जा सकता है.

खबर के अनुसार, देश में पहली बार किसी सरकारी प्रतिष्ठान में ट्रांसजेंडरों को इस तरह नियुक्ति दी जा रही है. सभी का चयन आम प्रतिभागियों की तरह लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के माध्यम से हुआ है. इन्हें जरूरी प्रशिक्षण देने के बाद मौजूदा सभी 11 स्टेशनों पर तैनात किया जाएगा. अधिकारियों के मुताबिक, जैसे ही निर्देश मिलते हैं, सभी कर्मचारियों की तैनाती कर दी जाएगी.

इस संबंध में कोच्चि मेट्रो के प्रमुख इलियास जॉर्ज कहते हैं, ‘हमारी यह पहल (ट्रांसजेंडरों को नियुक्ति देने की) केरल के समाज का मानवीय पहलू सामने लाती है. हमें उम्मीद है कि हमारी यह अनोखी पहल बेहद सफल रहेगी. इस प्रयास की सफलता के आकलन के बाद ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों को वॉटर मेट्रो (मेट्रो रेल के लिए जलपरिवहन की फीडर सेवा) में भी नियुक्ति दी जा सकती है.’