मुंबई से 26 पाकिस्तानी नागरिकों के लापता हो जाने की खबर है. मुंबई पुलिस के मुताबिक, कोई भी इनके बारे में पुख्ता जानकारी नहीं दे पा रहा है. ये पिछले दो-तीन हफ्ते से गायब हैं. इनमें एक आदमी जुहू में पिछले 10 साल से रह रहा था. वह इस इलाके में दुकान चलाता था.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर बताया है, ‘खुफिया एजेंसियों से अलर्ट जारी होने के बाद जब सुरक्षा एजेंसियों ने इन नागरिकों की तलाश की, तब इनके लापता होने के बारे में पता चला. पाकिस्तानी नागरिकों को भारत में प्रवेश करते ही एक सी-फॉर्म भरना होता है. इसमें उन्हें बताना होता है कि वे कहां रुके हुए हैं. कब तक रुकेंगे. साथ ही पासपोर्ट, वीजा, रेजीडेंशियल परमिट की प्रति भी लगानी होती है. लेकिन गायब हुए इन सभी नागरिकों ने यह सी-फॉर्म भी नहीं भरा था.’

बहरहाल, पाकिस्तानी नागरिकों के लापता होने का पता चलते ही पुलिस अलर्ट हो गई है. महाराष्ट्र पुलिस की एटीएस (आतंक निरोधक दस्ता) ने इनकी तलाश तेज कर दी है. तमाम होटल, लॉज आदि को खंगालने के लिए टीमें भेजी गई हैं. सूत्र बताते हैं कि खुफिया एजेंसियों से पता चला है कि आतंकी संगठन- इंडियन मुजाहिदीन के कुछ सदस्यों ने पिछले कुछ महीनों में संभवत: किसी वारदात को अंजाम देने के इरादे से शहर के कई स्थानों की टोह ली थी. टोह लेने वाले ये सभी लोग कर्नाटक के भटकल इलाके से ताल्लुक रखने वाले थे.