ब्रिटिश कंपनी-ग्लोबल न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम (जीएनसीएपी) ने क्रेश टेस्ट के दौरान रेनो डस्टर को जीरो रेटिंग दी है. जीएनसीएपी दुनियाभर में गाड़ियों के सेफ्टी फीचर्स की रेटिंग तय करने के लिए जानी जाती है. कंपनी ने यह क्रैश टेस्ट भारत में उपलब्ध डस्टर के बेसिक वैरिएंट पर आजमाया था जिसमें कोई एयरबैग नहीं होता है. सेफ्टी के मामले में जीरो स्टार पाने वाली डस्टर इकलौती भारतीय गाड़ी नहीं है. इससे पहले शैवरले-एंजोय, टाटा-जेस्ट, ह्युंडई-इओन, मारुति-ईको, मारुति-सेलेरियो, महिंद्रा स्कॉर्पियो और रेनो क्विड के बेसिक वैरिएंट को भी ऐसे ही टेस्ट में जीरो रेटिंग मिल चुकी है.

जीएनसीएपी का कहना है कि एयरबैग न होने से दुर्घटना की स्थिति में ड्राइवर को गंभीर चोटें लगने की पूरी-पूरी आशंका रहती है. जब इन नतीजों को रेनो के साथ साझा किया गया तो उसने यही टेस्ट सिंगल (ड्राइवर साइड) एयरबैग वाले वैरिएंट के साथ दोहराने का आग्रह किया. हालांकि जीएनसीएपी ने इस वैरिएंट को तीन स्टार दिए हैं लेकिन इसे भी उम्मीदों पर पूरी तरह खरा उतरने वाला नहीं बताया है. जीएनसीपी के मुताबिक डस्टर के इस मॉडल में जो एयरबैग लगाया गया है उसका स्थान व आकार सही नहीं हैं.

Play

जीएनसीएपी के मुताबिक दुर्घटना होने पर डस्टर का एयरबैग ड्राइवर के सिर के उचित संपर्क में नहीं आता और आकार में छोटा होने से यह ड्राइवर को पूरा कवर भी नहीं कर पाता है. इससे ड्राइवर के सिर के स्टीयरिंग व्हील या डैशबोर्ड के दूसरे हिस्सों से टकराकर चोटिल होने की संभावनाएं बनी रहती हैं. रेनो डस्टर के जो वैरिएंट कोलबिंया और अमेरिका के बाजारों में उपलब्ध हैं उनमें इस्तेमाल किए गए एयरबैग्स का आकार भारतीय डस्टर की तुलना में काफी बड़ा है. इस तरह अलग-अलग देशों में सेफ्टी फीचर के अलग-अलग मानक अपनाने के लिए भी जीएनसीएपी ने रेनो की आलोचना की है.

कारों और यात्री वाहनों की बिक्री में शानदार बढ़त

भारतीय ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए वित्त वर्ष 2017-18 अच्छी शुरुआत लेकर आया है. वाहन निर्माताओं के संगठन - सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्यूफैक्चर्स (सियाम) - द्वारा इस सप्ताह जारी आंकड़ों के मुताबिक कारों और यात्री वाहनों की बिक्री में इस साल शानदार बढ़ोत्तरी देखने को मिली है. इन आंकड़ों के मुताबिक घरेलू बाजार में पिछले महीने कारों की बिक्री में 17.36 फीसदी की बढ़त देखी गई. पिछले साल अप्रैल में जहां सिर्फ 1,62,566 कारों की बिक्री हुई थी वहीं इस साल यह आंकड़ा बढ़कर 1,90,788 हो गया. यात्री वाहनों की बात करें तो अप्रैल 2017 में इनकी बिक्री पिछले साल की 2,42,060 यूनिट्स की तुलना में 14.68 प्रतिशत बढ़त के साथ 2,77,602 यूनिट रही है.

बिक्री में यह बढ़ोतरी दोपहिया वाहनों में भी देखी जा सकती है. सियाम के मुताबिक अप्रैल में दो-पहिया वाहनों की कुल बिक्री पिछले साल की 15,60,308 यूनिट की तुलना में 7.34 प्रतिशत बढ़कर 16,74,796 यूनिट हो गयी.

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति-सुजुकी ने इस साल अप्रैल में 1,44,492 गाड़ियां बेची जो पिछले साल की बिक्री - 1,17,045 यूनिट्स - की तुलना में 23.4 प्रतिशत ज्यादा है. बताया जा रहा है कि यह मारुति का अब तक का सर्वश्रेष्ठ मासिक प्रदर्शन है. इसके अलावा वैश्विक बिक्री में नौ प्रतिशत गिरावट झेलने वाली टाटा मोटर्स ने भी अप्रेल में बेहतर प्रदर्शन किया. इसके यात्री वाहनों की बिक्री पिछले साल से 23 प्रतिशत बढ़कर 12,827 वाहन रही. घरेलू बाजार में बिक्री के मामले होंडा का प्रदर्शन इन सबसे बेहतरीन रहा है. कंपनी पिछले साल के 10,486 वाहनों की तुलना में इस साल 38.1 प्रतिशत की बढ़त के साथ 14,480 वाहन बेचने में सफल रही.

आईसुजु ने भारत में अपनी बहुप्रतीक्षित एसयूवी - एमयू-एक्स - लाँच की

भारतीय कार बाजार में पहला एडवेंचर यूटिलिटी व्हीकल उतारने वाली जापानी कंपनी आईसुजु ने इस सप्ताह अपनी बहुप्रतीक्षित प्रीमियम एसयूवी एमयू-एक्स को देश में लाँच कर दिया है. एमयू-एक्स को बनाने के लिए आईसुजु ने उसी प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया है जिस पर डी-मैक्स, वी-क्रॉस और शेवरेले की ट्रेलब्लेज़र को तैयार किया गया था.

इस फुल साइज एसयूवी में 3.0 लीटर क्षमता वाला इंजन लगाया गया है. यह कार 5-स्पीड ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन बॉक्स के साथ उपलब्ध होगी जोकि कुछ लोगों को अन्य एसयूवी के मुकाबले कम लग सकते हैं. व्हील ड्राइविंग कंट्रोल के लिहाज से कंपनी ने इस गाड़ी को 4x4 और 4x2 दोनों विकल्पों के साथ बजार में उतारा है. इस गाड़ी का 4x2 संस्करण रियर व्हील ड्राइव है. एक्सटीरियर की बात करें तो आगे से यह नयी एसयूवी, कंपनी के एक अन्य मॉडल - वी-क्रॉस - से ही मिलती जुलती नज़र आती है. वहीं इसका रियर लुक ट्रेलब्लेजर जैसा है. इसका कॉन्ट्रास्ट कलर बंपर, एलईडी डे-टाइम रनिंग लैंप और 17-इंच के मल्टी स्पॉक पहिए जहां इसे काफी अग्रेसिव लुक देते हैं. वहीं पीछे की तरफ इस्तेमाल किए गए रैपअराउंड टेल-लैंप्स भी इसे अलग बनाते हैं.

क्रूज कंट्रोल, सात-इंच की इन्फोटेनमेंट स्क्रीन और पिछली सीट पर बैठी सवारियों के मनोरंजन के लिए कार की छत से लगी 10-इंच की स्क्रीन इसकी खूबियों में शुमार है. कंपनी का दावा है कि यह कार उन लोगों के लिए बेहतरीन विकल्प साबित होगी जिन्हें स्टाइल, पॉवर और सड़क पर अपनी दमदार मौजूदगी के साथ गाड़ी में अपने परिवार के लिए सहूलियतें और आराम भी चाहिए. बताया जा रहा है कि एमयू-एक्स, फोर्ड एंडेवर, टोयोटा फॉर्च्यूनर और एक्सयूवी-500 जैसी गाड़ियों को टक्कर दे सकती है. लेकिन यही बात इसके खिलाफ भी जा सकती है क्योंकि इस प्राइस रेंज में खरीदारों के पास पहले से ही कई और बढ़िया विकल्प मौजूद हैं. आईसुजु ने अपनी इस कार के लिए 23.99 लाख रुपए (दिल्ली एक्स शोरूम) कीमत तय की है.