रियो ओलंपिक में रजत पदक जीतने वाली बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को आंध्र प्रदेश सरकार डिप्टी कलेक्टर बनाने जा रही है. इसके साथ ही उन्हें तीन करोड़ रुपए नक़द और नई बन रही राजधानी अमरावती में 1,000 वर्ग गज का रिहाइशी प्लॉट भी सरकार की ओर से दिया जाएगा.

डेक्कन हेराल्ड के मुताबिक, सिंधु को डिप्टी कलेक्टर के तौर पर नियुक्ति देने के लिए सरकार ने हाल में ही राज्य लोकसेवा आयोग कानून में संशोधन किया है. जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) विधेयक को विधानसभा की मंजूरी देने के लिए बुलाए गए विशेष सत्र के दौरान लोकसेवा आयोग कानून में संशोधन भी पारित कराया गया. खबर के मुताबिक, संशोधित कानून को राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन की मंजूरी मिलते ही सिंधु को नियुक्ति दे दी जाएगी. वे फिलहाल भारत पेट्रोलियम कॉर्पाेरेशन में डिप्टी मैनेजर के तौर पर कार्यरत हैं.

सिंधु (22) हैदराबाद की पुलेला गोपीचंद अकादमी में प्रशिक्षण ले रही हैं. आंध्र प्रदेश सरकार ने उसे भी अमरावती में 10 एकड़ जमीन देने की पेशकश की है. ताकि वहां अकादमी स्थापित की जा सके. इस बाबत सदन में चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कहा, ‘सिंधु ने ओलंपिक में असाधारण खेल दिखाया है. उनके योगदान को सरकार अपने स्तर पर सम्मान देने की कोशिश में है. पिछली सरकारों ने खेल प्रतिभाओं की अनदेखी भले की हो. लेकिन हम इन प्रतिभाओं को राज्य से जोड़े रखने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे.’

गौरतलब है कि सिंधु को तेलंगाना सरकार ने भी पांच करोड़ रुपए नकद और सैकपेट इलाके में 1,000 वर्ग गज का प्लॉट देने का ऐलान किया है. साथ ही इसी तरह की सरकारी नौकरी भी. बल्कि तेलंगाना के मुख्ययमंत्री के. चंद्रशेखर राव तो करीब 15 दिन पहले प्लॉट के कागज़ात और इनामी राशि भी सिंधु को सौंप चुके हैं. लेकिन जैसा कि सिंधु की मां विजया ने बताया है, ‘वह (सिंधु) आंध्र सरकार की नौकरी ज्वाइन करेगी.’