‘छात्र अपनी डिग्री पर माता-पिता में से किसका नाम चाहता है, उसे यह फैसला करने की छूट होनी चाहिए.’

— प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का यह बयान महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी के सुझाव पर सैद्धांतिक सहमति जताते हुए आया. पिछले महीने उन्हें लिखे पत्र में मेनका गांधी ने कहा था कि छात्रों के डिग्री सर्टिफिकेट पर पिता के नाम का उल्लेख करने की अनिवार्यता के नियम को बदला जाना चाहिए, क्योंकि इससे पति से अलग रहने वाली महिलाओं को परेशानी होती है. इस पर प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘यह अच्छी सलाह है, हमें इस पर कोई आपत्ति नहीं है. इस पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग जल्द काम शुरू कर देगा.’ इससे पहले मेनका गांधी के जोर देने पर विदेश मंत्रालय पासपोर्ट के लिए माता-पिता में से किसी एक के नाम के साथ आवेदन करने की छूट दे चुका है.

‘बाबरी मस्जिद को गिराने में कोई साजिश नहीं हुई थी बल्कि भीड़ ने खुले तौर पर उसे गिराया था.’

— विनय कटियार, भाजपा सांसद

भाजपा नेता विनय कटियार का यह बयान बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई कोर्ट द्वारा आपराधिक साजिश का आरोप तय किए जाने के बाद आया. उन्होंने कहा कि आपराधिक साजिश के आरोप सही नहीं हैं, क्योंकि यह खुले तौर पर हुआ था, वहां लाखों लोग मौजूद थे. भाजपा सांसद ने आगे कहा कि जिस मामले में लाखों लोग शामिल हों, उसमें कुछ लोगों पर आरोप लगाकर सुनवाई करना ठीक नहीं है. वहीं, सपा के संरक्षक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव पर निशाना साधते हुए विनय कटियार का कहना था कि सबसे पहले मुलायम सिंह पर 1990 में कारसेवकों की हत्या का मुकदमा चलना चाहिए.


‘जीएसटी विधेयक मौजूदा स्वरूप में एक जुलाई से लागू नहीं हो सकता है.’

— अमित मित्रा, पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री

अमित मित्रा का यह बयान वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) से जुड़ी आपत्तियां दूर होने तक विधानसभा में जीएसटी विधेयक को पेश न करने की घोषणा करते हुए आया. उन्होंने कहा कि इसमें फुटवेयर और चमड़े के सामान जैसी तमाम वस्तुओं पर लगाने वाले कर और मनोरंजन कर जैसे मुद्दों का समाधान होना बहुत जरूरी है. अमित मित्रा ने आगे कहा कि वे तीन जून को होने जा रही जीएसटी काउंसिल की बैठक में अपनी इन आपत्तियों को रखेंगे. केंद्र सरकार एकीकृत कर प्रणाली के रूप में जीएसटी को जुलाई से लागू करना चाहती है. इसमें राज्यों से जुड़े जीएसटी विधेयक को अब तक 22 विधानसभाओं की मंजूरी भी मिल चुकी है.


‘बेहतर सैन्य तैयारी ही भारत के लिए सबसे अच्छी प्रतिरोधकता और क्षेत्रीय स्तर पर शांति की गारंटी है.’

— अरुण जेटली, केंद्रीय वित्त और रक्षा मंत्री

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का यह बयान पड़ोसी देशों से आने वाले खतरों की चर्चा करते हुए आया. रक्षा उद्यमों से जुड़े रक्षा मंत्री पुरस्कारों के वितरण कार्यक्रम में उन्होंने आयुध सामग्री और हथियारों के विकास में सरकारी और निजी कंपनियों के बीच स्वस्थ प्रतियोगिता पर जोर दिया. रक्षा मंत्री ने आगे कहा कि कोई भी देश केवल आयातित उपकरणों के सहारे लंबे समय तक न तो युद्ध जीत सकता है और न ही कोई लड़ाई लड़ सकता है. रक्षा मंत्री का यह भी कहना था कि अगर कोई देश केवल आयात पर ही निर्भर बना रहता है तो उसकी सैन्य तैयारियां अधूरी रह जाएंगी.


‘जर्मनी, भारत को एक भरोसेमंद साझेदार के रूप में देखता है.’

— अंगेला मर्केल, जर्मनी की चांसलर

अंगेला मर्केल ने यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ संयुक्त बयान के दौरान कही. भारत के साथ जर्मनी के घनिष्ठ संबंध को साठ साल पुराना बताते हुए उन्होंने कहा कि इस दौरान दोनों देश के बीच साझेदारी लगातार मजबूत हुई है. अंगेला मर्केल ने कहा कि 2000 में दोनों देशों ने रणनीतिक साझेदारी पर, फिर 2011 में अंतर-सरकारी विमर्श शुरू करने पर सहमति जताई, जिससे दोनों देशों के संबंध काफी मजबूत बने हैं. शोध और शिक्षा का उदाहरण देते हुए जर्मनी की चांसलर ने उम्मीद जताई कि भविष्य में दोनों देश आपसी सहयोग को विस्तार देने में सक्षम होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी चार देशों की यात्रा की शुरुआत जर्मनी से की है.