1-तंबाकू सेवन को सबसे बड़ी मानव निर्मित त्रासदी कहा जाता है. यह देश में हर साल 12 लाख लोगों की मौत की वजह बनता है. घंटे के हिसाब से यह आंकड़ा 137 बैठता है. वहीं दुनिया में तंबाकू उत्पादों का सेवन हर छह सेकेंड में एक जिंदगी लील रहा है. इसके चलते दुनिया में हर साल 55 लाख लोगों की मौत होती है.

2-विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक अभी दुनिया में करीब एक अरब 10 करोड़ लोग किसी न किसी रूप में तंबाकू का सेवन करते हैं. दुनिया में हर साल करीब 30 लाख लोगों की मौत तंबाकू के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष सेवन के चलते उपजी दिल की बीमारियों से होती है. भारत और इंडोनेशिया जैसे देशों में तंबाकू का सेवन करने वाले आधे लोगों को यह पता ही नहीं है कि इससे दिल के दौरे का खतरा भी हो सकता है.

3-स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार एक सिगरेट जिंदगी के 11 मिनट कम कर देती है. बीड़ी को कुछ लोग कम नुकसानदेह मानते हैं लेकिन ऐसा नहीं है. कार्बन मोनोऑक्साइड और निकोटीन की मात्रा तक हर मोर्चे पर यह सिगरेट से ज्यादा नुकसानदायक होती है.

4- 2010 में आए वैश्विक वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण (गेट्स) के अनुसार भारत में 48 फीसदी पुरुष और 20 फीसदी महिलाएं किसी न किसी रुप में तंबाकू का इस्तेमाल करती हैं. डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट ग्लोबल टोबेको एपिडेमिक के मुताबिक महिलाओं के बीच तंबाकू का सेवन लगातार बढ़ता जा रहा है.

5- गेट्स के मुताबिक विश्व में हर 10 में से एक वयस्क की मौत का कारण तंबाकू सेवन ही है. विश्व में तंबाकू सेवन के कारण हुई कुल मौतों का लगभग पांचवां हिस्सा भारत से आता है. डब्ल्यूएचओ का अनुमान है कि 2050 तक 2.2 अरब लोग तंबाकू या तंबाकू उत्पादों का सेवन कर रहे होंगे.