‘लालू-नीतीश की जोड़ी देखकर लगता है कि कहो रहीम कैसे निभे बेर केर के संग.’

— योगी आदित्यनाथ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का यह बयान बिहार में राजद और जदयू गठबंधन को बेमेल बताते हुए आया. मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर बिहार के दरभंगा जिले में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ‘प्रकृति इस बेमेल शादी को बर्दाश्त नहीं करने वाली, बिहार में एक सफाई अभियान चलने वाला है.’ योगी आदित्यनाथ ने तीन तलाक जैसे मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर चुप रहने का भी आरोप लगाया. इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि योगी आदित्यनाथ को बिहार में खाली हाथ नहीं आना चाहिए बल्कि पूर्ण शराबबंदी और स्थानीय निकायों में महिलाओं के लिए 50 फीसदी आरक्षण जैसे फैसले करते हुए आना चाहिए.

‘जरूरत से ज्यादा शक्तियां मिलने पर संवैधानिक संस्थाएं नेताओं से ज्यादा भ्रष्ट हो सकती हैं.’

— मनोहर पर्रिकर, गोवा के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का यह बयान गोवा विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव अधिकारियों द्वारा किए गए खर्च पर सवाल उठाते हुए आया. चुनाव आयोग के अधिकारियों की जवाबदेही पर उन्होंने कहा, ‘नेताओं को हर पांच साल में जनता के सामने आना पड़ता है. सही या गलत जो भी होता है, उसके लिए 24 घंटे मीडिया को जवाब देना पड़ता है. इससे मुझे कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन ऐसी ही जवाबदेही सभी जगह होनी चाहिए.’ गोवा के कुछ पंचायत वार्डों में चुनाव कराने में देरी को लेकर मनोहर पर्रिकर ने कहा, ‘इस देरी के लिए कौन जिम्मेदार है? राज्य के चुनाव आयोग में जवाबदेही का अभाव है.’


‘अगर महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकारें किसानों का कर्ज माफ कर सकती हैं तो मध्य प्रदेश की क्यों नहीं?’  

— ज्योतिरादित्य सिंधिया, कांग्रेस नेता

ज्योतिरादित्य सिंधिया का यह बयान मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार पर मंदसौर में किसानों पर गोली चलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘मध्य प्रदेश सरकार किसानों का कर्ज माफ करने से भाग रही है.’ भोपाल में किसानों को लेकर सत्याग्रह कर रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने केंद्र सरकार पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘चुनाव प्रचार के दौरान खेती को लाभकारी बनाने के लिए प्रधानमंत्री ने कई वादे किए थे. लेकिन, अब केंद्र सरकार कह रही है कि राज्य कर्जमाफी का पैसा खुद जुटाएं, केंद्र कोई मदद नहीं करेगा.’ कांग्रेस सांसद ने केंद्र सरकार पर इस तथ्य को नजरअंदाज करने का भी आरोप लगाया कि देश में हर साल लगभग 12,000 किसान आत्महत्या कर लेते हैं.


‘भाजपा के पास बहुत पैसा है, उसे इस पैसे से किसानों का कर्ज चुका देना चाहिए.’

— उद्धव ठाकरे, शिवसेना प्रमुख

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की यह प्रतिक्रिया महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस के इस बयान पर आई है कि भाजपा मध्यावधि चुनाव के लिए तैयार है. ठाकरे ने कहा कि अगर भाजपा किसानों का कर्ज चुका देती है तो शिवसेना राज्य में फड़णवीस सरकार का समर्थन करती रहेगी. महाराष्ट्र में भाजपा के अध्यक्ष रावसाहेब पाटिल धानवे पर निशाना साधते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘किसान उन लोगों को कभी नहीं भूलेंगे, जिन्होंने उन्हें अपशब्द कहे हैं.’ उन्होंने आगे कहा कि शिवसेना को सत्ता की परवाह नहीं है, वह किसानों का हमेशा समर्थन करती रहेगी. शिवसेना अध्यक्ष ने एक बार फिर दोहराया कि राज्य सरकार ने अगर किसानों की कर्जमाफी की घोषणा को जुलाई तक लागू नहीं किया तो भूचाल आ जाएगा.


‘आतंकवाद का समर्थन करने वाले देशों को देर-सबेर इसकी बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी.’

— एंटोनियो गुटेरेस, संयुक्त राष्ट्र के महासचिव

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस का यह बयान अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी से काबुल में मुलाकात करने के बाद आया. अफगान सरकार द्वारा अपने यहां आतंकवाद को पाकिस्तान से मिल रहे समर्थन के सबूत दिए जाने के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि उनका कार्यालय आतंकवाद के खिलाफ साझी लड़ाई में दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने में मदद करने के लिए तैयार है. एंटोनियो गुटेरेस ने आगे कहा कि वे इस बारे में कजाखस्तान की राजधानी अस्ताना में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से भी मुलाकात कर चुके हैं. संयुक्त राष्ट्र के महासचिव का कहना था कि जिस तरह से पिछले दिनों काबुल और पाकिस्तान सहित दुनियाभर में भीषण आतंकी हमले हुए हैं, उसे देखते हुए पूरी दुनिया को इसके खिलाफ एकजुट हो जाना चाहिए.