प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कोच्चि मेट्रो का औपचारिक उद्घाटन किया. इसके साथ ही केरल का कोच्चि शहर मेट्रो ट्रेन की सुविधा वाला देश का आठवां शहर बन गया है. उद्घाटन के मौके पर पर प्रधानमंत्री मोदी के साथ ‘मेट्रोमैन’ के नाम से मशहूर हो चुके ई श्रीधरन भी थे जिनके बारे में चर्चा है कि उन्हें केंद्र में सत्ताधारी एनडीए (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बना सकता है.

केरल के राज्यपाल पी सतशिवम, मुख्यमंत्री पिनराई विजयन और केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू की मौज़ूदगी में उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने मेट्रो ट्रेन में सफर भी किया. इसके साथ कोच्चि मेट्रो का व्यावसायिक संचालन भी शुरू हो गया. कोच्चि मेट्रो के पहले चरण के तहत पलारिवत्तम से पथादिप्पलम के बीच 13 किलोमीटर लंबी रेल लाइन बिछाई गई है. इस पर करीब 5,181 करोड़ रुपए की लागत आई है. बता दें कि मेट्रो ट्रेन की सुविधा वाले देश के सात अन्य शहरों में दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, जयपुर, बेंगलुरू, लखनऊ शामिल हैं.

कोच्चि मेट्रो परियोजना कई मायनों में अनोखी है...

1. देश की यह पहली मेट्राे परियोजना है जिसमें पहले चरण में ही 13 किलोमीटर लंबा ट्रैक बिछाया गया है. वह भी सबसे कम समय मेँ. इसके पहले चरण का काम पूरा होने में सिर्फ 45 महीने लगे हैं. जबकि मुंबई में 11 किलोमीटर का पहला चरण 75 महीने और चेन्नई में महज़ चार किलोमीटर के पहले चरण का काम 72 महीने में पूरा हुआ था.

2. यह देश की पहली मेट्रो परियोजना है जो अपनी ज़रूरत की एक चौथाई बिजली सौर ऊर्जा से हासिल करेगी. फिलहाल यहां सोलर पैनलों के ज़रिए 2.3 मेगावाॅट बिजली पैदा की जा रही है. करीब चार मेगावॉट का सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने पर भी विचार किया जा रहा है. इसके बाद कुल ज़रूरत का करीब आधा हिस्सा सौर ऊर्जा से मिलने लगेगा.

3. मेट्रो के करीब 4,000 खंभों पर वर्टिकल गार्डन बनाने की भी योजना है. इनमें नगर निगम का रीसाइकिल किया हुआ कचरा इस्तेमाल किया जाएगा. कोच्चि मेट्रो कॉर्पोरेशन अपने यात्रियों के लिए हर स्टेशन पर आने-जाने के लिए मुफ्त साइकिल भी उपलब्ध कराएगी. ताकि वे अपने वाहनों को घर छोड़कर आने के लिए प्रेरित हों.

4. कोच्चि मेट्रो के स्टाफ में बड़ी तादाद में महिलाओं को तैनात किया गया है. साथ ही यह देश का पहला ऐसा सरकारी उपक्रम है जहां ट्रांसजेंडर्स को भी नौकरी पर रखा गया है. उन्हें टिकट काउंटरों से लेकर साफ-सफाई, रख-रखाव आदि के सभी कामों में उनकी योग्यता के हिसाब से तैनाती दी गई है.

5. कोच्चि मेट्रो के स्टेशन अलग-अलग थीम पर डिजाइन किए हैं. जैसे- सीयूसैट स्टेशन में पानी की थीम है तो पथादिप्पलम में दीवारों पर जलचरों के सुंदर चित्र नज़र आते हैं. ऐसे ही पलारिवत्तम स्टेशन पर ख़ूबसूरत फूल-पौधों की चित्रकारी से आंतरिक साज-सज्जा की गई है.

6. कोच्चि के आसपास लगने वाले करीब 10 टापुआें पर रहने वाली आबादी के लिए ‘वाटर मेट्रो’ की सुविधा भी दी जाएगी. यह रेल कॉरीडोर तक आने वाली नौका सेवा (फैरी सर्विस) होगी. इस ‘वॉटर मेट्रो’ के 2018 के अंत तक शुरू होने की संभावना है. इस पर 800 करोड़ रुपए ख़र्च किए जाएंगे.

7. कोच्चि मेट्रो के स्टेशनों पर फ्री वाइ-फाइ सुविधा उपलब्ध होगी. ये सुविधा देने वाली यह देश की पहली मेट्रो है

8: मेट्रो ट्रेन की दरवाज़े केरल के परंपरागत वाद्य यंत्र चेंदा के संगीत के साथ खुलेंगे और बंद होंगे.

9. महिलाओं और बुज़ुर्गों के लिए ट्रेनों में आरक्षित सीटें अलग-अलग रंग से दर्शााई गई हैं.

10. ऐसे ही विकलांगों के लिए व्हीलचेयर तो उपलब्ध होगी ही, उनके लिए भी अलग रंग की सीटें आरक्षित होंगी.