पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बल जवानों के बीच हिंसक झड़प की खबर है. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वाहनों में आग लगाने के साथ-साथ सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया है. सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि इस दौरान इंडियन रिजर्व बटालियन (आईआरबी) के अधिकारी किरण तमांग पर खुकरी से हमला किया गया था जिसमें उनकी मौत हो गई है. वहीं गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) ने अपने दो समर्थकों की मौत का दावा किया है.

उधर, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस झड़प में कोई भी मौत होने से इनकार किया है. उन्होंने बताया है कि हमले में घायल जवान तमांग की स्थिति गंभीर है. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने जीजेएम पर निशाना साधते हुए कहा है कि मोर्चा अपनी विश्वसनीयता खो चुका है और इसलिए चुनाव नजदीक आने पर हिंसा पर उतारू हो गया है. जीजेएम के नियंत्रण वाले प्रशासनिक निकाय गोरखा क्षेत्रीय प्रशासन (जीटीए) का चुनाव जुलाई के अंत तक होना है.

इस बीच, जीजेएम नेता बिनय तमांग ने पुलिस की गोलीबारी में पार्टी के दो समर्थकों की मौत की न्यायिक जांच कराने की मांग की है. उन्होंने दावा किया है कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर रबर बुलेट्स या पानी की बौछारों का इस्तेमाल नहीं किया, बल्कि सीधे गोलियां चलाई हैं. दूसरी ओर, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) अनुज शर्मा ने प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने से इनकार किया है. हालांकि, स्थानीय न्यूज चैनलों में पुलिस द्वारा हवा में फायरिंग किए जाने की बात सामने आई है.