जापानी समुद्री क्षेत्र में अमेरिकी नौसेना का जंगी जहाज एक मालवाहक जहाज से टकरा गया है. इस हादसे में सात अमेरिकी नौसैनिक लापता हो गए, जबकि तीन गंभीर रूप से घायल हुए हैं. इन सैनिकों को इलाज के लिए जापान लाया गया है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक अमेरिका का निर्देशित मिसाइल विध्वंसक जहाज फित्जराल्ड अपना नियमित गश्ती अभियान पूरा करने के बाद जापान के याकोशुका बेस पर लौट रहा था, लेकिन इससे 56 नॉटिकल मील पहले ही अपने से तीन गुना भारी कंटेनर शिप एसीएक्स क्रिस्टल से टकरा गया.

अमेरिका का यह जहाज सातवें बेड़े का हिस्सा है. अमेरिकी सेना की यह इकाई प्रशांत महासागर में उसकी सुरक्षा के लिहाज से काफी अहम मानी जाती है. रिपोर्ट के मुताबिक इस इकाई के प्रवक्ता ने बताया कि लापता सैनिकों को तलाशने का अभियान जारी है. इसमें जापान मेरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स के पांच जहाजों के अलावा अमेरिका के एक युद्धक जहाज को भी लगाया गया है. यह भी आशंका जताई जा रही है कि सभी लापता नौसैनिक जहाज के क्षतिग्रस्त हिस्से में फंसे हो सकते हैं. शुरुआत में फित्जराल्ड के डूबने की आशंका जताई जा रही थी, लेकिन नौसैनिक अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि जहाज में पानी के रिसाव को नियंत्रित कर लिया गया है. इस हादसे में कंटेनर शिप के चालक दल के सभी सदस्य सुरक्षित बच गए हैं और जहाज को भी ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा है.

जापानी कोस्टगार्ड के मुताबिक यह हादसा इजू प्रायद्वीप से 20 किमी दूर जहाजों की आवाजाही के लिहाज से काफी व्यस्त इलाके में हुआ है. यहां से रोजाना 400 से 500 जहाज गुजरते हैं. इस क्षेत्र में बीते पांच साल में चार बड़े हादसे हो चुके हैं. यहां सितंबर, 2015 में जापान और दक्षिण कोरिया के मालवाहक जहाजों की भिड़ंत में छह जापानियों की मौत हो गई थी.