अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो साल पहले बराक ओबामा द्वारा क्यूबा के साथ किए गए समझौते को रद्द करने की घोषणा की है. इसके साथ ही ट्रंप प्रशासन ने क्यूबा पर नए यात्रा और व्यापार प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है. हालांकि अमेरिका ने क्यूबा में अपने दूतावास को बंद न करने का फैसला लिया है.

राष्ट्रपति ट्रंप ने एक रैली में कहा कि क्यूबा के साथ अमेरिका का समझौता एकतरफा था इसलिए इसे रद्द किया जा रहा है. व्हाइट हाउस के अनुसार इस समझौते के रद्द होने से अब अमेरिकी कंपनियां क्यूबा के साथ कोई कारोबार नहीं कर सकेंगी.

इससे पहले दिसंबर 2014 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने क्यूबा के साथ अमेरिका के संबंध सामान्य बनाने की कोशिश शुरू की थी. दोनों देश शीत युद्ध के समय से ही एक-दूसरे के कट्टर विरोधी रहे हैं. दोनों जुलाई 2015 में एक दूसरे के यहां 1961 में बंद हुए अपने दूतावास दोबारा खोलने पर राज़ी हुए थे. इसके बाद बराक ओबामा पिछले साल मार्च में 57 साल बाद क्यूबा जाने वाले पहले राष्ट्रपति बने थे. उन्होंने तब कहा था कि क्यूबा पर लगाई गई आर्थिक पाबंदियों को हटाना अमेरिकी कांग्रेस के हाथ में है. अमेरिका ने फिदेल कास्त्रो के नेतृत्व में हुई क्रांति के दो साल बाद क्यूबा से अपने राजनयिक संबंध खत्म कर लिए थे.